1. सरकारी योजनाएं

रोजाना 7 रुपए जमा करके पाएं 5,000 तक की रिटर्न राशि, ये सरकारी योजना है एकदम सुरक्षित

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Atal Pension Yojana

Atal Pension Yojana

कोरोना काल की वजह से भारतीय अर्थव्यवस्था लड़खड़ा सी गई है. इस स्थिति में लोग कहीं भी निवेश करने से झिझक रहे हैं. अगर आप भी ऐसा कर रहे हैं, तो आज हम आपके लिए एक ऐसी जानकारी लेकर आए हैं, जिससे आप धनराशि निवेश करके एक सुरक्षित रिटर्न पा सकते हैं.

दरसअल, भारत सरकार एक ऐसी योजना लेकर आई है, जिसमें आप धनराशि निवेश करके सुरक्षित रिटर्न पा सकते हैं. इस योजना का नाम अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana/ APY) है.

क्या है अटल पेंशन योजना (What is Atal Pension Yojana)

इस योजना की शुरुआत साल 2015 में की गई थी. इस योजना के तहत आपको प्रतिदिन 7  रुपए के हिसाब से प्रतिमाह 210 रुपए जमा कराने होते हैं. अगर आप अपने बचत खाते को योजना से जोड़ देते हैं, तो इस राशि को आप (ऑटो डेबिट सुविधा के जरिए) त्रैमासिक या अर्धवार्षिक भी जमा करा सकते हैं.

कौन उठा सकता है लाभ ( Who can avail)

शुरुआत में अटल पेंशन योजना असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों के लिए थी. मगर अब इस योजना का लाभ 18 से 40 साल तक के उन सभी भारतीयों को दिया जा रहा है, जिनका बैंक या पोस्ट ऑफिस में खाता है.

कितनी मिलती है पेंशन (How much pension)

अगर आप इस योजना में निवेश करते हैं, तो राशि के आधार पर कम से कम 1,000, 2000 3000, 4000 और अधिक से अधिक से 5,000 रुपए की मासिक पेंशन मिल सकती है. अगर आपकी आयु 18 साल है और आप इस योजना के तहत प्रतिदिन 7 रुपए के हिसाब से राशि जमा करते हैं, तो आपको 60 साल की आयु के बाद 5,000 रुपए की पेंशन प्रदान की जाएगी. अगर अभिदाता की मृत्यु हो जाती है, तो उसकी पत्नी या पति को पेंशन मिलती है. इसके लिए योजना में नामांकन के समय आवेदक को अनिवार्य तौर पर अपनी पति या पत्नी की जानकारी उपलब्ध करानी होती है.

अगर आप अटल पेंशन योजना से जुड़ी अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप इस लिंक पर  https://bit.ly/3xQDgHg जाकर विजिट कर सकते हैं.

English Summary: get return amount up to rs 5,000 by depositing rs 7 in atal pension yojana daily

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News