MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

November Agriculture Work: किसान नवंबर माह में इन फसलों की बुवाई करें, मिलेगा रिकॉर्ड तोड़ उत्पादन

रबी सीजन शुरू होते ही किसानों को 15 नंवबर तक इन फसलों की बुवाई कर लेनी चाहिए, क्योंकि यह समय बीजों को मिट्टी में अच्छे से जमाता है. जिसके बाद यह फरवरी मार्च में कटाई के लिए तैयार हो जाते हैं.

निशा थापा
Sow these crops by November 15, you will get record breaking production
Sow these crops by November 15, you will get record breaking production

देश के अधिकतर हिस्सों में रबी फसलों की बुवाई का काम चरम पर है. कृषि सलहाकारों की मानें तो 15 अक्टूबर से लेकर 15 नवंबर का समय फसलों की अगेती बुवाई के लिए बेहद अनुकूल माना जाता है. इस दौरान बुवाई करने से मिट्टी में बीजों का जमाव सही तरह से होता है. जिससे पौधें की जड़ें मजबूत होती हैं और पौधे का अच्छी तरह से विकास भी होता है और फरवरी- मार्च तक यह पूर्ण रूप से विकसित भी हो जाती हैं.

रबी सीजन में गेहूं की खेती
रबी सीजन में गेहूं की खेती

रबी सीजन में उगाई जानी वाली फसलें

रबी सीजन हल्की गुलाबी ठंड में शुरू हो जाता है, इस सीजन में मुख्त: गेहूं, जौ, सरसों, आलू, मटर चना आदि की खेती की जाती है. इसके साथ ही बागवानी की फसलों में आलू, मूली, गाजर, टमाटर, भिंडी, सेम, लौकी, गोभी, पालक, मैथी, करेला, शलगम आदि की खेती की जाती है.

गेहूं की खेती

रबी सीजन की मुख्य फसल गेहूं को कहा जाता है. जो देश के अधिकतर हिस्मों में बड़े पैमाने में की जाती है. पंजाब, हरियाणा, मध्यप्रदेश व उत्तर प्रदेश को गेहूं के उत्पादन का हब माना जाता है. यहां पर उत्पादित गेहूं से देश की खाद्य आपूर्ती तो की ही जाती है साथ ही निर्यात भी किया जाता है. गेहूं की अगेती किस्मों की बुवाई के लिए अनुकूल समय 15 अक्टूबर से लेकर 15 नवंबर है.  गेहूं की अगेती किस्मों की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

रबी सीजन में चना की खेती
रबी सीजन में चना की खेती

चना की खेती 

चना खपत भारत समेत अन्य देशों में बड़े पैमाने पर होती है. रबी सीजन में दलहनी फसलों में चने को मुख्य माना जाता है. भारत के यूपी, बिहार महाराष्ट्र, राजस्थान, कर्नाटक और मध्य प्रदेश चना उत्पादन के बड़े राज्य माने जाते हैं. चने की बुवाई के लिए सही समय अक्टूबर-नवंबर का महीना उपयुक्त माना जाता है, क्योंकि चने की खेती के लिए सामान्य तापमान की आवश्यकता होती है. चने की किस्मों की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

सरसों की खेती 

रबी सीजन में सरसों की खेती को मुख्य दलहनी फसल में से एक माना जाता है. सरसों की खपत देश- विदेशों में बड़े पैमाने पर होती है. हो भी क्यों ना, क्योंकि सरसों के तेल का उपयोग खाना बनाने में किया जाता है. मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान व महाराष्ट्र को सरसों की खेती का हब माना जाता है. पाम तेल व सोयाबीन के बाद सरसों का उत्पादन बड़े पैमाने पर किया जाता है. सरसों की खेती के साथ अधिकतर किसान मधुमक्खी पालन भी करते हैं, जिससे किसानों की आय में बढ़ोतरी भी होती है. सरसों की किस्मों की अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

रबी सीजन में सरसों की खेती
रबी सीजन में सरसों की खेती
रबी सीजन में आलू की खेती
रबी सीजन में आलू की खेती

आलू की खेती 

आलू की खेती मुख्यतरबी सीजन में की जाती है. आलू में सभी पोषक तत्व मौजूद होते हैं, तभी तो इसे सब्जियों का राजा भी कहा जाता है. आलू की मांग पूरे साल ही रहती है. हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब, और मध्य प्रदेश में आलू की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है. आलू की किस्मों की अधिक जानकारी के लिए यहां पढ़ें.

English Summary: Sow these crops by November 15, you will get record breaking production Published on: 04 November 2022, 01:59 PM IST

Like this article?

Hey! I am निशा थापा . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News