MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

तूर- अरहर बीज के छिलकों में दूध से 6 गुना अधिक होता है कैल्शियम – ICRISAT

दूध से भी अधिक कैल्शियम होता है तूर अरहर में. इंटरनेशनल क्रॉप्स रिसर्च इंस्टीट्यूट फॉर द सेमी-एरिड ट्रॉपिक्स (ICRISAT) द्वारा किए गए शोध में यह बात कही गई.

निशा थापा
तूर- अरहर बीज के छिलकों में दूध से 6 गुना अधिक होता है कैल्शियम
तूर- अरहर बीज के छिलकों में दूध से 6 गुना अधिक होता है कैल्शियम

तुर/अरहर के बीज के छिलके में दूध की तुलना में 6 गुना अधिक कैल्शियम होता हैजिससे यह खाद्य और दवा उद्योगों के लिए ऑस्टियोपोरोसिस और रिकेट्स जैसे स्वास्थ्य मुद्दों से लड़ने के लिए एक बेहतरीन विकल्प बन सकता है. ICRISAT के जीनबैंक के नेतृत्व में किए गए शोध में पाया गया है कि सिर्फ 100 ग्राम अरहर के बीज के कोट में 652 मिलीग्राम कैल्शियम होता हैजबकि 100 मिली दूध में 120 मिलीग्राम कैल्शियम होता है. पोषक तत्वों की जैव उपलब्धता का मूल्यांकन करने के लिए दूसरा शोध प्रगति पर है. मानव शरीर को प्रति दिन 800-1,000 मिलीग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है.

अरहर दक्षिण एशियामध्य अमेरिका और अफ्रीका में अर्ध-शुष्क उष्ण कटिबंध में किसानों द्वारा उगाई जाने वाली एक दलहनी फसल हैजो एक किफायती प्रोटीन स्रोत के रूप में काम करती है. भारत सबसे बड़ा उपभोक्ता है और वर्ष 2020 के लिए वैश्विक स्तर पर 82% खेती और 77% उत्पादन किया गया. इसे विभिन्न रूपों में खाया जाता हैजैसे कि दाल (छिलका रहित अनाज). इसे अनाज के साथ भी जोड़ा जाता है और विभिन्न लोकप्रिय व्यंजन जैसे ढोकलादाल पैटीज़टेम्पेहअडाई और कड़ाबा को बनाने में उपयोग में लाया जाता है.

अध्ययन के लिएआईसीआरआईएसएटी में 2019 और 2020 बरसात के मौसम (खरीफ) के दौरान उगाई गई 600 अरहर की प्राप्तियों में से 60 विविध अरहर की उपजों (प्रकार) का एक उपसमुच्चय चुना गया था. इस अध्ययन में बताए गए सीड कोट में कैल्शियम की मात्रा (652 मिलीग्राम) चावल की भूसीगेहूं की भूसी और जई की भूसी की तुलना में अधिक है.

अध्ययन में कहा गया कि उदाहरण के लिएभारत में वर्ष 2020 में अरहर का उत्पादन 3.89 मिलियन टन अनाज थाजिसमें मिलिंग (10% के रूप में गणना) के बाद 0.39 मिलियन टन हल (बीज कोट) का उत्पादन हुआजिसमें तकरीबन 2,543 टन अनाज हो सकता है. कैल्शियम जो 1,000 मिलीग्राम की अनुशंसित दैनिक भत्ता के साथ एक वर्ष के लिए 6.90 मिलियन लोगों को पूरक कर सकता है.

अन्य फलियों और अनाजों की तुलना में अरहर के 100 ग्राम बीज आवरण के साथ-साथ बीजपत्र में भी 2.7 मिलीग्राम से अधिक आयरन पाया गया है. बीजपत्र में प्रोटीन सामग्री बीज कोट की तुलना में सात और 18 गुना अधिक थी.

यह भी पढ़ें: कीटों से परेशान किसान ने बनाया सौर ऊर्जा चलित ब्लू लाइट ट्रैप उपकरण, ऐसे करता है काम

पौधों पर आधारित सूक्ष्म पोषक तत्वों के कैप्सूल में सिंथेटिक्स की तुलना में बेहतर अवशोषण होता है. यह उपलब्ध पोषक तत्वों के अधिकतम उपयोग के लिए अरहर में अनुसंधान का एक नया क्षेत्र बनाता है. अपशिष्ट उप-उत्पादों का प्रबंधन निश्चित रूप से कार्यात्मक भोजन और आहार पूरक उत्पादन के मामले में कुपोषण और भूख को कम कर सकता है." अरहरविकासशील देशों की एक फलीदार फसल है जो किसानों का पेट भरती है

English Summary: Pigeonpea tur-arhar seed coat has six times more calcium than milk Published on: 17 November 2022, 05:19 PM IST

Like this article?

Hey! I am निशा थापा . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News