MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

प्याज की 5 उन्नत किस्में, मिलेगा प्रति हेक्टेयर 500 क्विंटल तक उपज, किसानों की हो जायेगी चांदी

अगर आप भी प्याज की खेती करने की सोच रहे हैं तो हम आपको यहां प्याज की पांच सबसे उन्नत किस्मों की जानकारी देने जा रहे हैं. इन प्याज की किस्मों की खेती कर किसान बंपर मुनाफा कमा सकते हैं.

अनामिका प्रीतम
प्याज की खेती के लिए रबी सीजन सबसे उपयुक्त मानी जाती है
प्याज की खेती के लिए रबी सीजन सबसे उपयुक्त मानी जाती है

प्याज एक ऐसी सब्जी है जिसे गर्मी हो या फिर सर्दी हर मौसम में खाया जाता है. इसलिए इसकी डिमांड बाजार में सालभर रहती है. यही वजह है कि देश के ज्यादातर सब्जी किसान इसकी खेती करते हैं.

Early Grano variety of onion
Early Grano variety of onion

प्याज की खेती तो वैसे किसी भी सीजन में की जाती है. लेकिन इसकी खेती के लिए रबी सीजन सबसे उपयुक्त माना जाता है. अभी रबी सीजन चल रहा है तो ऐसे में किसानों के लिए प्याज की खेती करना एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है. इसलिए हम आपको इस लेख में प्याज की पांच उन्नत किस्मों की जानकारी देने जा रहे हैं, जिसकी खेती कर किसान अच्छी पैदावार पा सकते हैं.

प्याज की अर्ली ग्रेनो किस्म

प्याज की अर्ली ग्रेनो किस्म की बुवाई से किसान प्रति हेक्टेयर तक 500 क्विंटल तक पैदावार पा सकते हैं. इसकी फसल 115 से 120 दिनों के अंदर पककर तैयार हो जाती है. इस किस्म का प्याज हल्का पीला रंग का होता है इसलिए इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल सलाद के रूप में किया जाता है.

Pusa Ratnar variety of onion
Pusa Ratnar variety of onion

प्याज की पूसा रतनार किस्म

इस किस्म की बुवाई कर किसानों को प्रति हेक्टेयर 400 से 500 क्विंटल पैदावार मिल सकती है. इस किस्म की फसल 125 दिनों में बाजार में बेचने के लिए तैयार हो जाती है. इस किस्म के प्याज का रंग गहरा लाल होता है.

ये भी पढ़ें: Onion Farming: प्याज की खेती कैसे करें, यहां जानें रोपाई से लेकर प्याज निकालने तक की पूरी जानकारी

Hisar-2 variety of onion
Hisar-2 variety of onion

प्याज की हिसार-2 किस्म

इस किस्म का प्याज रोपाई के 175 दिनों बाद पककर तैयार हो जाता है. इस किस्म की बुवाई कर किसान प्रति हेक्टेयर 300 क्विंटल तक उत्पादन ले सकते हैं. इसका रंग गहरे लाल और भूरे रंग का होता है. साथ ही इसका स्वाद तीखा नहीं होता है. ऐसे में इसका इस्तेमाल सलाद में करना अच्छा होता है.

pusa red variety of onion
pusa red variety of onion

प्याज की पूसा रेड किस्म

लाल रंग के प्याज की इस किस्म से प्रति हेक्टेयर 200 से 300 क्विंटल तक उत्पादन लिया जा सकता है. ये 120-125 दिनों में पककर बाजार में जाने के लिए तैयार हो जाता है.

Pusa White Flat Variety of Onions
Pusa White Flat Variety of Onions

प्याज की पूसा व्हाईट फ्लैट किस्म

इस प्याज की किस्म की फसल रोपाई के 125 से 130 दिनों के अंदर पककर तैयार हो जाती है. वहीं, इससे प्रति हेक्टेयर 350 क्विंटल तक उपज लिया जा सकता है. इसकी सबसे खास बात ये है कि इस किस्म का प्याज उजला नजर आता है. जी हां, ये वही उजला प्याज है जिसे हम अक्सर बाजार में देखकर देखते ही रह जाते हैं.   

English Summary: 5 advanced varieties of onions, will get up to 500 quintals per hectare, farmers will get silver Published on: 18 November 2022, 11:38 AM IST

Like this article?

Hey! I am अनामिका प्रीतम . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News