1. खेती-बाड़ी

Monsoon 2020: मानसून में सब्जियां उगाने के लिए अपनाएं वर्टिकल फार्मिंग तकनीक, बारिश से नहीं होगी फसल खराब

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
vertical farming

किसान बहुत बेसब्री से मानसून का इंताजर करते हैं, ताकि वह पानी वाली फसलों की खेती आसानी से कर पाएं. मानसून सीजन खरीफ फसलों के लिए बहुत उपयुक्त माना जाता है. इस दौरान किसान मुख्य रूप से धान की खेती को प्रमुखता देते हैं. धान के साथ-साथ सोयाबीन, मक्का, अरहर, दलहन-तिलहन फसलों की बुवाई करते हैं. मगर कई बार कम या अधिक बारिश से सब्जियों की फसल में  रोग और कीट का प्रकोप हो जाता है. इस कारण किसानों को सब्जियों की खेती में भारी नुकसान उठाना पड़ता है. शायद यही वजह है कि किसान धान, मक्का. सोयाबीन जैसी फसलों की तरफ ज्यादा रूख करते हैं. ऐसे में आज कृषि जागरण अपने किसान भाईयों के लिए इस समस्या का समाधान लेकर आया है.

दरअसल, देश के अधिकतर राज्यों के बागवानी विभाग द्वारा सब्जियों की खेती के लिए कई उन्नत तकनीक को विकसित किया जा रहा है. इसमें वर्टिकल फार्मिंग तकनीक का नाम भी शमिल है. आजकल खेती में यह तकनीक वरदान बनती जा रही है. किसान इस तकनीक को अपनाकर खेती में काफी लाभ उठा रहे हैं. इसके तहत किसान खीरा, घीया, टमाटर, शिमला मिर्च, तोरई, करेला, सादा मिर्च और ऑफ सीजन धनिया भी उगा सकते हैं.

ये खबर भी पढ़े:Monsoon 2020: यूपी में 7 साल बाद तय समय पर पहुंचा मानसून !

farming

क्या है वर्टिकल फार्मिंग  (What is vertical farming)

इस तकनीक में सब्जियों के पौधों को पॉली हाउस में ऊपर बांध दिया जाता है. इसके बाद बांस और बल्लियों के सहारे बेल को उपर चढ़ा देते हैं. इस तरह सब्जियां जमीन पर नहीं टिक पाती हैं औऱ पौधे ऊपर की तरफ बढ़ते रहते हैं. इस तरह सब्जियों की फसल बारिश, कीट, रोग आदि के प्रकोप से बची रहती हैं, साथ ही इससे उत्पादन भी अधिक मिलता है.  

वर्टिकल फार्मिंग से फायदा (Benefit from vertical farming)

इस तकनीक में सब्जियों की फसलें जमीन को नहीं छू नहीं पाती हैं. इस कारण उनका आकार और रंग काफी साफ प्राप्त होता हैं. साफ शब्दों में कहें, तो फसल की गुणवत्ता काफी अच्छी मिलती है और बाजार में अच्छी कीमत में बिकती हैं.

वर्टिकल फार्मिंग पर सब्सिडी (Subsidy on vertical farming)

किसानों को इस तकनीक से सब्जियां उगाने पर बागवानी विभाग द्वारा सब्सिडी भी उपलब्ध कराई जाती है. राज्य सरकार अपने-अपने अनुसार इस तकनीक पर सब्सिडी देती हैं. इसको अपनाकर किसान फसलों का दोगुना उत्पादन प्राप्त कर सकते हैं. देश के कई राज्यों के किसान इसका लाभ उठा रहे हैं.

ये खबर भी पढ़े:Monsoon 2020: किसान जून से सितंबर तक करें लोकाट की बागवानी, मानसून की बारिश दिलाएगी बेहतर उत्पादन

English Summary: Monsoon 2020, Cultivate vegetables in monsoon with vertical farming techniques

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News