Farm Activities

आलू की बंपर पैदावार के लिए विशेषज्ञों की सलाह

aloo

देशभर में किसान रबी फसलों की तैयारियों में जी जान से जुट गए हैं. आलू भी रबी सीजन की प्रमुख फसल है. इस समय उत्तर प्रदेश समेत देश के कई हिस्सों में आलू की बुवाई की जाना है. इसके लिए किसानों ने बीज की तैयारी कर ली है. इधर, आलू की बुवाई से पहले कृषि विशेषज्ञों ने किसानों को कुछ जरुरी सलाह दी. तो आइये जानते हैं कृषि विशेषज्ञों का क्या कहना है-

जुताई करके छोड़ दें खेत

उत्तरप्रदेश के किसानों को कृषि विशेषज्ञों ने जरुरी सलाह दी है कि आलू की बंपर पैदावार के लिए खेतों की जोताई करके छोड़ दें. कृषि विशेषज्ञ विकास पुरी का कहना आलू की खेती करने वाले किसानों को खेत की अच्छी जुताई करने के बाद 10 दिनों के लिए छोड़ दें. दस दिनों किसानों को आलू की बुवाई कर देनी चाहिए. उन्होंने कहा कि आलू की बुवाई का समय आ गया है. खेत की जुताई करके कुछ छोड़ने से खरपतवार नष्ट हो जाते हैं. जिससे आलू की अच्छी पैदावार होती है. साथ ही पूरी ने कहा कि आलू की बुवाई के दौरान पौधे से पौधे की दूरी का विशेष ध्यान देना चाहिए.

ये हैं आलू की प्रमुख किस्में-

कुफरी अलंकार, कुफरी चंद्र मुखी, कुफरी नवताल जी 2524, कुफरी बहार 3792 ई, कुफरी शील मान, कुफरी ज्योति, कुफरी सिंदूरी, कुफरी बादशाह, कुफरी देवा, कुफरी लालिमा, कुफरी लवकर और कुफरी स्वर्ण.



English Summary: farmers leave the fields plowing for good potato production

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in