MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

पाउड्री मिल्ड्यू से बर्बाद नहीं होगी मटर की फसल, तैयार हुए रोगरोधी बीज

फसल को बर्बाद करने वाला फफूंद किसानों के लिए चिंता का विषय था कि आख़िर यह कैसे पनप रहा है, और हर साल किस कारण से फसल को अपनी चपेट में लेता है. देश के नामी कृषि वैज्ञानिकों ने लाहौल में मटर की फसल पर अध्ययन करने के बाद पाया कि पाउड्री मिल्ड्यू कहां से मटर के खेतों में घुसपैठ करता है.

प्राची वत्स
Pea Cultivation
Pea Cultivation.

ठंड के मौसम में हरी सब्जियों का बहार रहता है. बाजारों में आपको हर तरफ हरी सब्जियाँ दिखाई देंगी. हरी सब्जियों की अगर बात करें, तो यह जितनी पौष्टिक होती हैं, उतनी हीं स्वादिष्ट भी होती हैं. तभी तो ठंड आते ही स्वाद और स्वास्थ दोनों बेहतर होने लगता है.

ठंड में मटर की डिमांड इतनी बढ़ जाती है कि बाजारों में समय से पहले ही उपज ख़त्म हो जाती है, लेकिन ठंड के मौसम में खेती करना किसानों के लिए बेहद चुनौती भरा होता आया है. ठंड में फसलों को अधिक नुकसान होने का ख़तरा रहता है.

इसके चलते ही ठंडे इलाकों में मटर की बुवाई करने वाले किसानों के लिए राहत की खबर की है. अब पाउड्री मिल्ड्यू से उत्पन्न होने वाले फफूंद से उनकी फसल खराब नहीं होगी. कृषि विवि के प्लांट पैथोलॉजी विभाग ने इसके लिए रोगरोधी बीज तैयार किया है.

दरअसल लाहौल क्षेत्र को गुणवत्ता वाले मटर की पैदावार के लिए जाना जाता है. यहां से हर साल देश के अन्य राज्यों में करोड़ों रुपये का मटर भेजा जाता है. यहां मटर की फसल पाउड्री मिल्ड्यू तबाह कर रहा है.

फसल को बर्बाद करने वाला फफूंद किसानों के लिए चिंता का विषय था कि आख़िर यह कैसे पनप रहा है, और हर साल किस कारण से फसल को अपनी चपेट में लेता है. देश के नामी कृषि वैज्ञानिकों ने लाहौल में मटर की फसल पर अध्ययन करने के बाद पाया कि पाउड्री मिल्ड्यू कहां से मटर के खेतों में घुसपैठ करता है. यह मटर की फसल ही क्यों बर्बाद करता है.

कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर के कुलपति डॉ. एचके चौधरी और डॉ. अमर सिंह कपूर ने जब पाया कि लाहौल में जब मटर तैयार होता है तो उससे कुछ दिन पहले फसल पर काले धब्बे पड़ने लगते हैं. इतना ही नहीं, इस रोग से मटर की 25 से 40 फीसदी फसल बीमारी की चपेट में आ जाती है. पाउड्री मिल्ड्यू मटर को खराब कर रहा है, परंतु यह कहां से हर साल घुस रहा है. इसका पता लगाना जरूरी था. 

ये भी पढ़ें: मटर की फसल को रोगों से कैसे बचाएं?

डॉ.चौधरी कहते हैं कि वैज्ञानिकों की टीम अध्ययन के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंची कि पाउड्री मिल्ड्यू फरवरी-मार्च में फिर सक्रिय होता है और मटर की फसल को तबाह करने लगता है. इसके बाद कृषि विवि के वैज्ञानिकों ने मटर के पाउड्री मिल्ड्यू फफूंद रोधक बीज विकसित करने के साथ दवाओं को विकसित किया.

प्लांट पैथोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉ. डीके बन्याल ने कहा कि पाउड्री मिल्ड्यू के फैलने के कारणों का पता चलने के बाद वैज्ञानिकों ने रोग रोधक मटर के बीज विकसित किए. इसके साथ ही मटर को पाउड्री मिल्ड्यू से बचाने के लिए दवाएं भी विकसित कीं. इसके बाद मटर उत्पादकों ने राहत पाई. 

English Summary: Disease resistant seed designed to save pea crops Published on: 08 December 2021, 04:23 PM IST

Like this article?

Hey! I am प्राची वत्स. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News