1. खेती-बाड़ी

जून-जुलाई में करें मक्का की खेती, होगा अच्छा मुनाफा, जानिए तरीका

Maize Cultivation

Maize Cultivation

दुनियाभर में मक्का उत्पादन में भारत का पांचवां स्थान है. हमारे यहां बड़े स्तर पर मक्का की खेती की जाती है.  मक्का का उपयोग मानव आहार के अलावा पशु आहार, कुक्कुट आहार में भी किया जाता है. इसमें बड़ी मात्रा में स्टार्च पाया जाता है. वैसे, तो हमारे देश में मक्का बोने का प्रचलन बेहद पुराना है, लेकिन आजकल मक्का की विदेशी किस्म खूब बोई जा रही है. तो आइए जानते हैं मक्का की खेती की पूरी जानकारी - 

मक्का की बुवाई का उचित समय

बरसाती मक्का की बुआई 10 जुलाई तक करना चाहिए. जबकि देर से पकने वाली मक्का की किस्मों को मई-जून माह के मध्य तक कर लेनी चाहिए. वहीं कम समय में पकने वाली मक्का को जून के अंत में बोना चाहिए. मक्का बोने के 15 दिनों बाद खेत की निराई करना चाहिए ताकि खरपतवार मक्का की ग्रोथ को प्रभावित न करें.  

मक्का की खेती के लिए बीज शोधन 

मक्का के बीज का शोधन आप जैविक तरीके से भी कर सकते हैं. इसके लिए देशी गाय के गौमूत्र का प्रयोग करना चाहिए.

मक्का की खेती के लिए बीज की मात्रा

अगर मक्का की देशी प्रजाति की बुआई कर रहे हैं, तो प्रति हेक्टेयर 16 से 18 किलोग्राम मक्का की जरूरत पड़ेगी. वहीं, हाइब्रिड बीज 20 से 22 किलोग्राम लगता है. इसके अलावा मक्का की संकुल किस्मों की बुआई करने पर 18 से 20 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर बीज लगेगा.   

मक्का की खेती के लिए बुवाई की विधि

मक्का की अगेती किस्मों को पंक्ति से पंक्ति दूरी 45 सेंटीमीटर, पौधे से पौधे की दूरी 20 सेंटीमीटर और गहराई 3.5 सेंटीमीटर रखना चाहिए. वहीं मध्य और देर से पकने वाली किस्मों के लिए पंक्ति से पंक्ति की दूरी 60 सेंटीमीटर, पौधे से पौधे की दूरी 25 सेंटीमीटर और गहराई 3.5 सेंटीमीटर होनी जरूरी है.  

मक्का की खेती के लिए निराई-गुड़ाई

मक्का का पौधा काफी सघन होता है. यह वजह है उचित समय पर निराई-गुड़ाई करना चाहिए. सही समय पर निराई गुड़ाई से ऑक्सीजन का संचार अच्छा होता है जिससे पौधे का विकास तेजी से होता है. मक्का बोने के 15 दिनों बाद पहली निराई करना चाहिए. जबकि दूसरी निराई 35 से 40 दिनों बाद करना चाहिए. 

English Summary: Cultivate maize in June-July, there will be good profit

Like this article?

Hey! I am श्याम दांगी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News