स्प्रिंट-बीज शोधन का उच्चतम विकल्प

खेतों को हरा-भरा बनाने के पीछे कितनी मेहनत लगती है एक किसान से बेहतर कोई नहीं जानता है। बात जब उत्पादन की हो तो किसान काफी सोच समझकर कृषि आदान परविश्वास करता है। कृषि आदान चाहे बीज हो अथवा बीजोपचार के काम आने वाला कोई रसायन। लेकिन अब किसानों को घबराने की जरूरत नहीं है।क्योंकि इंड़ोफिल इण्डस्ट्री जलि. मुबंई बीजो पचार के लिए स्प्रिंट ब्रांड नाम से वर्ष 2011 से एक ऐसा उत्पाद मुहैया करवा रही है जो भारत में लाखों किसानों द्वारा आजमाया और सराहा गया है। स्प्रिंट ना केवल बीजोपचार के काम आयेगा बल्कि भूमि जनित और बीज जनित बीमारियों से लडने के लिए बीज को फौलादी बनाने का काम भी करेगा। इसके अलावा अंकुरण पौध वृद्धि की समस्या से भी देश के किसानों को छुटकारा दिलायेगा। स्प्रिंट को लेकर कंपनी के प्रॉडक्ट मैनेजर (फंगीसाइड) अंजनी मनबंश का कहना है कि स्प्रिंट कंपनी का पेटेन्डेड उत्पाद है।कंपनी स्प्रिंट को अब की बार बार-बार स्प्रिंट से बीजो पचार स्लोगन के साथ किसानों को यह उत्पाद मुहैया करवा रही है।प्रॉडक्ट मैनेजर अंजनी मनबंश के साथ वार्तालाप के मुख्य अशं...

स्प्रिंट क्या है

स्प्रिंट एकई. बी. डी. सी और बेंजी मिडाजोल समूह का सदस्य है। यह डब्ल्यू एस फॉर्मूलेशन आधारित उत्पाद है। स्प्रिंट इंडोफिल की खोज और विकास विभाग का पेटेन्डेड उत्पादहै। यह उत्पाद अनेक फसलों में बीज और मिट्टी से पैदा होने वाली और पत्तियों से फैलने वाले रोगों को अपने स्पर्शीय और अतंर प्रवाही दोहरी कार्य प्रणाली से सुरक्षा प्रदान करता है।किसानों के लिए यह उत्पाद किसी रामबाण से कम नहीं है।जिस किसान ने एक बार इस उत्पाद को इस्तेमाल किया वह स्प्रिंट का होकर रह गया।

किसान स्प्रिंट का उपयोग कौन-कौन सी फसल में कर सकता है

किसान मूंगफली धान गेहूँ आलू की फसल के बीजो पचार में स्प्रिंट का उपयोग कर सकता है। यह उत्पाद भारत सरकार से अनुमोदित है। ऐसे में किसान स्प्रिंट पर 24 कैरेट सोने की तरह विश्वास कर सकते है। एक बार बीजो पचार करने से किसान की फसल उत्पादन से जुड़ी आधी से ज्यादा समस्याएं दूर हो जाती है।गौरतलब है कि सरकार भी तिलहनी फसलों का उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाने पर जोर दे रही है। वहीं कृषि वैज्ञानिक सुरक्षित फसल उत्पादन के लिए बीजो पचार को पहली सीढ़ी बतातेहै। ऐसे मेंइंड़ोफिल का यह उत्पाद किसानों के लिए सोने पे सुहागा है। निम्नलिखित फसलों पर स्प्रिंट शीघ्र ही पंजीकृत होने वाला है।इन फसलों में सोयाबीन चना उड़द प्याज और मक्का शामिल है।

स्प्रिंट किसानों के लिए कैसे फायदे मंद है

किसानों के सामने बीज के धीमे अंकुरण कम अंकुरण कमजोर और बीमार पौधे मिट्टी और बीज जनित रोग सहित कई दूसरी समस्या रहती है। स्प्रिंट ऐसा पेन्टेडेड उत्पाद है जो इन समस्याओं का निराकरण तो करता ही है साथ ही किसान की आय बढ़ाने का काम करता है। स्प्रिंट पर किए गए पंजीनिवेश से किसान  को अच्छा लाभ होता है।जिससे किसान समृद्धि की ओर मुस्कुराहट के साथ अग्रसर हो सके। स्प्रिंट से बीजोपचार से अंकुरण त्वरित गति से होता है। भरपूर अंकुरण के साथ-साथ किसानों को रोग मुक्त और स्वस्थ फसल होता है। जिससे किसानों को उच्चतम उपज प्राप्त होती है।

स्प्रिंट की खूबी क्या है

स्प्रिंट ऐसा बहुउद्धेश्यीय उत्पाद है जो कम निवेश पर किसानों को ज्यादा आय सुरक्षा प्रदान करता है। इसकी सबसे बड़ी खूबी यह है कि बीज का  तुरंत उपचार करके किसान उसी दिन भी बुवाई कर सकता है।जैसा की आप जानते है कृषि के क्षेत्र में बहुत नवीन तकनीकों का इस्तेमाल हो रहा है। इसके लिए सरकार भी लगातार जागरूकता कार्य क्रम चला रही है।इन्टरनेट और सोशल मीडिया के जरिए किसानों को जानकारी दी जाती है। कंपनी ने यह उत्पाद भविष्य की मांग को देखते हुए तैयार किया है।ताकि किसान की कृषि लागत घटे उसकी आय में वृद्धि हो।वह भी सम्मानित जीवन बसर कर सके।

प्रतिस्पद्र्धा के दौर में कंपनी किस मुकाम पर है

स्वस्थ व्यापार के लिए प्रतिस्पद्र्धा जरूरी है। कंपनी इंड़ोफिल का सपना हर किसान हो अपना ध्येय वाक्य के साथ देश के अधिकांश राज्यों में अपना करोबार कर रही है। 50 से अधिक सालो से कंपनी किसानों की सेवा में है। कंपनी के पास गुणवत्ता पूर्ण और विश्वनीय उत्पादों की लम्बी श्रृखंला है। इसी का परिणाम है कि इंड़ोफिल मैन्को जेंब में वल्र्ड लीडर है। वहीं 100 से ज्यादा देशों में अपने उत्पाद का निर्यात कर रही है।देश के हर राज्यों में कंपनी के पास वितरक-विक्रेताओं का सुदृढ़ नेटवर्क है। इस कारण किसानों को समय पर मांग के अनुसार उत्पाद मुहैया हो रहे है। इंड़ोफिल देश की ऐसी कंपनी है जिसको केन्द्रीय कीटनाशक परिषद भारत सरकार के द्वारा देश में उत्पादन और बिक्री की अनुमति है।

Comments