Rural Industry

लोन लेकर शुरू करें बांस की बोतल का बिजनेस, होगी अच्छी कमाई!

Bamboo Bottle

ग्रामीण क्षेत्रों में बांस का उपयोग सामान्यतः सब्जियों, बागवानी पौधों को सहारा देने के लिए किया जाता है. इसके अलावा भी बांस का कई तरह से उपयोग किया जाता है. वहीं आजकल बांस बनी क्रॉकरी, कप प्लेट, बोतल, चम्मच, थाली, कांटा समेत कई प्रोडक्ट की जबरदस्त मांग है. लोग इन्हें खरीदना इसलिए भी पसंद करते हैं क्योंकि दिखने में काफी आकर्षक होते हैं. तो आइये जानते हैं कैसे करें बांस के विभिन्न उत्पादों को बनाने का बिजनेस. 

कहां से ले ट्रेनिंग

बांस के उत्पाद तैयार करके किसान अतिरिक्त आय अर्जित कर सकते हैं. गांव में रहकर भी बांस के उत्पाद बनाने की यूनिट आसानी से लगाई जा सकती है. इसके लिए खादी ग्रामोद्योग आयोग भी किसानों अपनी तरफ से पहल कर रहा है. आयोग ने खुद के बांस से बने उत्पाद भी बाजार में उतारे थे. वहीं बांस मिशन के तहत आयोग लोगों को बांस के सामान बनाने के लिए प्रशिक्षित कर रहा है. वहीं जो लोग लोन लेकर बांस के उत्पाद बनाने का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं आयोग ऐसे लोगों की लोन दिलाने में मदद भी कर रहा है. अधिक जानकारी के लिए आप खादी ग्रामोद्योग आयोग की वेबसाइट www.kvic.gov.in/kvicres/index.php  पर विजिट कर सकते हैं.

बांस की बोतल की डिमांड

बांस से बनी बोतल की आजकल बाजार में अच्छी खासी डिमांड है. इसकी 750 ML की एक बोतल लगभग तीन सौ रुपये में बिकती है. यदि आप भी बांस से बने प्रोडक्ट की ट्रेनिंग लेना चाहते हैं तो राष्ट्रीय बांस मिशन की वेबसाइट www.nbm.nic.in जरूर देखें.

कितने में शुरू होगा बिजनेस 

बांस से कई तरह के उत्पाद बनते हैं. ऐसे में इसका बिजनेस शुरू करने के लिए अलग-अलग लागत आती है. यदि आप बांस के आभूषण बनाने की यूनिट शुरू करना चाहते हैं तो इसके लिए लगभग 15 लाख रुपये का खर्च आता है. जिसकी अधिक जानकारी आप  apps.mpforest.gov.in/MPSBM/  पर जाकर ले सकते हैं. 

बांस से बने अन्य उत्पाद 

आमतौर पर आपने बांस से बने फर्नीचर, डंडा और टोकरी देखे होंगे लेकिन अब बांस का उपयोग ज्वेलरी, पानी की बोतल, हैंडीक्राफ्ट चीजें और लैंप सेट बनाने में खूब हो रहा है. बांस से बने लैंप सेट लोगों को खूब पसंद आता है. 

 



English Summary: Start a bamboo bottle business by taking a loan, you will earn so much

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in