1. ग्रामीण उद्योग

Business idea : इस पौधे की खेती से कमा सकते हैं करोड़ों, जानिए कैसे

स्वाति राव
स्वाति राव

Business Idea

आज की दुनिया में हर कोई अधिक कमाना और अमीर बनना चाहता है और सबसे कम आंका जाने वाला क्षेत्र जो आपको अमीर बना सकता है वह है कृषि क्षेत्र. तो आज हम आपको एक ऐसा बिजनेस आईडिया (Business Idea) देने जा रहे हैं जो आपको बहुत अधिक अच्छा मुनाफ देंगे. दरअसल, कुछ फसलें या पौधे हैं जो अत्यधिक लाभदायक हैं.

ऐसा ही एक पौधा है चंदन का. यह अपनी खूबसूरत खुशबू और लकड़ी के लिए जाना जाता है. चंदन की खेती (sandalwood cultivation) से आप आसानी से लाखों कमा सकते हैं.

चन्दन एक ऐसा पेड़ है जो अपने आप में सबसे महंगा और किफायती है जो अन्य पौधों से अधिक अच्छा माना जाता है. इसके साथ ही इसकी अंतरराष्ट्रीय बाजारों में अत्यधिक मांग रहती है जिसके चलते ये पूरी दुनिया में इसकी लडकी अधिक कीमत पर बिकती है. तो आइये जानते हैं इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको इसकी खेती के लिए क्या बातें जननी होंगी.

चन्दन की खेती से कितनी होगी कमाई (How Much Will Be Earned From The Cultivation Of Sandalwood)

चंदन की एक किलो लकड़ी से साढ़े तीन हजार रुपए मिलते हैं और अन्य देशों में इसे दो से पांच गुना कीमत पर बेचा जाता है. चंदन के पौधा जब वह व्यसक 18 साल के बाद हो जाता है और इससे आप 15 से 20 किलो चंदन प्राप्त होता है. तो इसमें आपको 80 से 95 हजार का निवेश करना होगा. जो रिटर्न 1.2 करोड़ रुपये से 1.5 करोड़ रुपये तक का लाभ मिल सकता है.

इस खबर को पढ़ें - चंदन की खेती से कम लागत में कैसे बनें करोड़पति?

चंदन का उपयोग (Use Of Sandalwood)

चंदन की सुगंध और इसके औषधीय गुणों के कारण चंदन की मांग विश्व स्तर पर है. इससे तेल निकल जाता है. आने वाले समय में दुनिया और समृद्ध होने वाली है, ऐसे में चंदन की मांग बढ़ने वाली है. उद्योग स्वाद के लिए सफेद चंदन के अर्क का उपयोग करते हैं. चंदन के तेल का उपयोग साबुन, सौंदर्य प्रसाधन और इत्र में सुगंध के रूप में किया जाता है.

चन्दन की खेती के लिए आवश्यक बातें (Essential Things For Sandalwood Cultivation)

तापमान और जलवायु (Temperature And Climate)

चंदन की खेती के लिए आर्द्र जलवायु अनुकूल होता है. वहीँ बात करें तापमान की तो इसमें 12 और 35 डिग्री सेल्सियस तापमान उचित माना जाता है.

मिटटी (Soil)

इसकी खेती के लिए मिटटी का सूखी, लाल रेतीली, पथरीली मिट्टी उचित मानी जाती है. इसक पीएच मान 6.5 से 7.5 के बीच होना चाहिए.

सिंचाई प्रक्रिया (Irrigation Process)

इसमें बुवाई के बाद मानसून के समय में 2-3 सप्ताह में एक बार पानी देना चाहिए.

चन्दन की पौधों की रोपाई (Planting Sandalwood Plants)

अगर पौधों की रोपाई की बात करें तो इसमें पौधों को क्यारियों में 30-35 सेमी की दूरी होनी चाहिए. 

English Summary: crores can be earned by cultivating this plant, know how

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters