1. ग्रामीण उद्योग

गोबर से बनी ये चीजें बाजारों में धूम मचा रही है

ये तो सभी जानते है कि गाय-भैंस की गोबर, जैविक खाद के लिए इस्तेमाल होता है या फिर बॉयो गैस( bio gas ) बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. कई लोग गोबर को देख कर मुँह मोड़ लेते है या फिर नाक सिकोड़ लेते है. शायद वे लोग यह नहीं जानते है कि बेकार सी दिखने वाली गोबर से वे कितना कुछ बना सकते है. ऐसे में आइये आज हम आपको गोबर से बने गमले और अगरबत्ती जैसे चीजों से कैसे लाखों की कमाई कर सकते है. उसके बारे में बताते है.

चलिए जानते है गोबर से बनी चीजों के बारे में..... 

गोबर के प्रयोग से आप कई तरह कि चीजों का कारोबार शुरू कर सकते है जैसे गमला, कलमदान, कूड़ादान, लक्ष्मी-गणेश, मच्छर भगाने वाली अगरबत्ती,  मोमबत्ती एवं अगरबत्ती स्टैण्ड आदि आप इन सभी वस्तुओं को घर बैठे आसानी से बना सकते हैं.

गोबर के गमले (Dung Pots )

गोबर से बना गमला प्राकृतिक रूप से काफी उपयोगी होता है. ये गमला मशीन द्वारा तैयार किया जाता है. इस गमले की विशेष बात यह होती है कि आप इसके अंदर मिट्टी भरकर पौधे को लगाकर कही भी रख सकते है और फिर आप चाहे तो गमला समेत ही ज़मीन में गड्ढा कर दबा सकते है. इससे पौधा को कोई नुकसान भी नहीं पहुंचेगा और गमले में लगे गोबर के द्वारा पौधे की अच्छे से ग्रोथ भी होगी.

dung sticks

मच्छर भगाने वाली अगरबत्ती (Dung Mosquito stick)

गोबर से बनी अगरबत्ती की भी बाजार में बहुत मांग है. क्योंकि गोबर से बनी अगरबत्ती काफी ज्यादा उपयोगी होती है. इस अगरबत्ती की महक से कीड़े - मकोड़े और मच्छर दूर भागते है. अगरबत्ती का कारोबार भी आपके लिए काफी फायदे का सौदा साबित हो सकता है. इस कारोबार में आपको ज्यादा निवेश करने की भी जरूरत नहीं है. आप कम निवेश में भी अच्छा मुनाफा कमा सकते है. 

गोबर के उपले (Dung Cake)

गोबर से बने उपलों की भी बहुत मांग है. आजकल तो ये तो ऑनलाइन भी बिक रहे है. जिसे इंग्लिश में "एनर्जी केक" भी कहा जाता है.  इसका प्रयोग पूजा – अर्चना और अंगीठी जलाने हेतु किया जाता है. जो कि एक बार जलाने पर आसानी से तीन से चार घंटे तक जलता है.

English Summary: cow dung business is a better way of earning

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News