1. विविध

मुश्किल था गांव से स्कूल तक का रास्ता, युवक ने बैलगाड़ी में ही खोल दी लाइब्रेरी

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार
school

गांव के सभी बच्चे स्कूल नहीं जा सकते थे. ना तो सभी के मां-बाप आर्थिक तौर पर समर्थ थे और ना ही सामाजिक रूप से इतने जागरूक कि सरकार की सभी योजनाओं का लाभ लेते हुए अपने बच्चों को शिक्षा प्रदान कर सके. बालिकाओं की हालत शिक्षा के मामले में लगभग वैसी ही थी, जैसी अधिकतर गांवों में होती है. संसाधनों का अभाव और स्कूल की दूरी ने उन्हें किताबों तक पहुंचने ही नहीं दिया. लेकिन इस गांव में एक इंसान ऐसा भी था जो बच्चों की शिक्षा को लेकर प्रयासित था.

दरअसल हम जिस गांव की बात कर रहे हैं, उसका नाम दर्गेनहल्ली है. ये गांव महाराष्ट्र के सोलापुर में पड़ता है. वैसे तो ये गांव भी भारत के आम गांवों की तरह सामान्य सा ही है, लेकिन इन दिनों यहां के रहने वाले काशिनाथ कोली चर्चा का विषय बने हुए हैं.

गौरतलब है कि काशिनाथ पिछले 6 महीने से अपने बैलगाड़ी को ही चलती-फिरती लाइब्रेरी बनाकर गांव के बच्चों को ज्ञान बांट रहे हैं. इस काम के लिए ना तो वो किसी तरह का पैसा लेते हैं और ना ही कोई विशेष मांग करते हैं. उनके इस कदम से गांव के उन किसानों के बच्चों को भी अब शिक्षा मिल रही है जो अभावों के कारण किताबें खरीदने में सक्षम नहीं थे.

जानकारी के मुताबिक, अपनी कोशिश और कड़ी मेहनत के बल पर काशिनाथ ने तकरीबन डेढ़ हजार किताबों का संग्रह किया है, जो बैलगाड़ी-लाइब्रेरी की मदद से बच्चों तक पहुंच रही है. वैसे काशिनाथ कोली पेशे से ऑफिस बॉय ही हैं. लेकिन विकली ऑफ और छुट्टी के दिन वो शिक्षा का प्रचार-प्रसार करते हैं.

इस बारे में गांव के किसानों ने बताया कि काशिनाथ सिर्फ बच्चों को मुफ्त में किताबें ही नहीं प्रदान करते बल्कि उनके विकास के लिए हर संभव सहायाता के लिए तैयार भी रहते हैं. यही कारण है कि गांव के सभी बच्चों में वो बहुत लोकप्रिय है.

English Summary: son of farmer convert his bullock cart into library

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News