Others

Career in Agriculture: एग्रीकल्चर क्षेत्र में करियर बनाना है, तो यहां पढ़िए कोर्स, डिप्लोमा, इंस्टीट्यूट संबंधी पूरी जानकारी

Agriculture Jobs

हम एक कृषि प्रधान देश में निवास करते हैं. जहां अन्नदाता को प्रमुख स्थान दिया जाता है. देश के किसान कड़ी मेहनत के बाद अनाज, फल, सब्जी का उत्पादन करते हैं, जिससे हर नागरिका का पेट भरता है. आधुनिक समय में कृषि क्षेत्र में कई नई तकनीक आ गई हैं, जिससे खेती में मुनाफ़ा कमाना आसान हो गया है. ऐसे में ज़रूरी है कि आज का युवा भी कृषि क्षेत्र में रुचि दिखाएं. कई बाहर माता-पिता बच्चों की स्कूल पढ़ाई पूरी होने के बाद सोचते हैं कि उनके अच्छे करियर के लिए आगे कौन-सी पढ़ाई कराएं. वैसे आजकल अधिकतर माता-पिता अपनों बच्चों को  डॉक्टर, इंजीनियरिंग, टीचर बनाना चाहते हैं, लेकिन हम आपको बता दें कि एग्रीकल्चर एक बेहतर भविष्य देता है. इसके लिए कई एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी हैं, जहां एडमिशन लेकर युवा एग्रीकल्चर में करियर बना सकते है. आज हम आपको एग्रीकल्चर क्षेत्र में करियर बनाने की पूरी जानकारी देने वाले हैं, इसलिए इस लेख को अंत तक ज़रूर पढ़ें...

क्या है एग्रीकल्चर (What is agriculture)

सबसे पहले यह जानना ज़रूरी है कि आख़िर एग्रीकल्चर क्या है? दरअसल, यह विज्ञान, कला और व्यवसाय का एक मिश्रण है. एग्रीकल्चर एक लैटिन शब्द है, जो "Ager" और "Culture" से मिलकर बनता है. "Ager" का मतलब "मिट्टी" और "culture" का मतलब "संस्कृति" है. बता दें कि एग्रीकल्चर में फसल उत्पादन, पशुपालन और डेयरी विज्ञान, कृषि रसायन और मृदा विज्ञान आदि शामिल हैं.

ये खबर भी पढ़ें: Investment scheme: मात्र 1 हजार रुपए निवेश करके हर 6 महीने पर कमाएं मुनाफ़ा, जानें क्या है सरकार की नई योजना

agriculture

इन विषयों में करें एग्रीकल्चर की पढ़ाई (Study agriculture in these subjects)

  • आप Sc या B.Sc ऑनर्स कर सकते हैं.

  • इसके अलावा एग्रीकल्चर के लिए PG कोर्स कर सकते हैं.

  • एग्रीकल्चर की पढ़ाई में PhD का विकल्प भी शामिल है.

  • इसके साथ ही वेटनरी साइंस, एग्रीकल्चरल इंजीनियरिंग, फॉरेस्टरी, डेयरी टेक्नोलॉजी, फ़िशरी, सेरीकल्चर, हॉर्टीकल्चर, फूड साइंस, होम साइंस, मार्केटिंग, बैंकिंग और कॉपरेशन में से एक विषय का चुनाव कर सकते हैं.

स्कूली शिक्षा के बाद एग्रीकल्चर सर्टिफिकेट कोर्स (Agriculture Certificate course after school education)

  • सर्टिफ़िकेट इन एग्रीकल्चर साइंस

  • सर्टिफ़िकेट इन फ़ूड एंड बेवरेज सर्विस

  • सर्टिफ़िकेट इन बायो-फ़र्टिलाइज़र प्रोडक्शन

एग्रीकल्चर डिप्लोमा  (Diploma in agriculture)

  • डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर

  • डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर एंड अलाइड प्रैक्टिस

  • डिप्लोमा इन फ़ूड प्रोसेसिंग

ये खबर भी पढ़ें: Swadeshi Business Ideas: इन 2 स्वदेशी बिज़नेस को शुरू करके देश और स्वयं को बनाएं आत्मनिर्भर, होगी लाखों रुपए की कमाई !

jobs

ये संस्थान देते हैं एडमीशन (These institutes offer admissions)

  • इजाज़तनगर, उत्तर प्रदेश

  • इंडियन एग्रीकल्चरल रिसर्च इंस्टीट्यूट, नई दिल्ली

  • इंडियन वेटनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट

  • इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय

  • जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय

  • नेशनल डेयरी रिसर्च इंस्टीट्यूट

  • इंडियन एग्रीकल्चरल रिसर्च इंस्टीट्यूट

  • इलाहाबाद एग्रीकल्चरल इंस्टीट्यूट

मैनेजमेंट कोर्स का विकल्प (Management courses option)

आप एग्रीकल्चर क्षेत्र में मैनेजमेंट कोर्स भी कर सकते हैं. जैसे, एग्रीबिजनेस, प्लांटेशन मैनेजमेंट कोर्स आदि.

ऐसे लें एडमीशन (Admission Process)

  • एग्रीकल्चरल साइंस या इंजीनियरिंग के लिए प्रवेश परीक्षाएं होती हैं.

  • कुछ राज्य इंजीनियरिंग, मेडिकल और एग्रीकल्चर कोर्सेज में एडमीशन के लिए कॉमन एंट्रेस टेस्ट आयोजित करते हैं.

  • भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, अखिल भारतीय स्तर पर प्रवेश परीक्षाएं होती हैं.

अन्य ज़रूरी जानकारी

  • अगर कोई एग्रीकल्चरल साइंटिस्ट बनना चाहता है, तो 12वीं फ़िजिक्स, केमिस्ट्री, गणित के अलावा बायोलॉजी विषय ले सकता है.

  • एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग क्षेत्र में जाने के लिए बैचलर इन इंजीनियरिंग, टेक्नोलॉजी या फिर एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में डिप्लोमा होना चाहिए.

  • प्रोफ़ेशनल कोर्स में एडमीशन लेने के लिए संबंधित विषयों में स्पेशलाइज़ेशन और एग्रीकल्चरल साइंस, इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री अनिवार्य है.

ध्यान दें कि अगर आप एग्रीकल्चर से सम्बंधित कोर्स करते हैं, तो आप सरकारी और निजी संगठनों में नौकरी कर सकते हैं. इसके अलावा खेती, कृषि उत्पादों की दुकान, कृषि उद्योग आदि का व्यवसाय कर सकते हैं.

ये खबर भी पढ़ें: मिनी स्प्रेयर है एक सस्ता और टिकाऊ कृषि यंत्र, कीमत मात्र 120 से 500 रुपए



English Summary: Complete knowledge of making a career in agriculture

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in