News

Wheat Variety: गेहूं की इन उन्नत क़िस्मों की बुवाई कर प्राप्त करें अधिक उपज

wheat

रबी के सीजन में बुवाई हेतु विभिन्न फसलों के उन्नत बीज रानी लक्ष्मीबाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय में उपलब्ध हैं. इन बीजों की बुवाई कर किसान अच्छी पैदावार प्राप्त कर सकते हैं. विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने बुंदेलखंड की जलवायु के मद्देनजर यह बीज तैयार किए हैं. दरअसल उत्तर प्रदेश में दलहन और तिलहन के कुल उत्पादन का 60 फीसदी हिस्सा बुंदेलखंड का है. वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की बात कही है. इसके लिए केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय ने कदम बढ़ाएं हैं.

बुंदेलखंड क्षेत्र के किसानों की आय दोगुनी करने के मकसद से कुलपति डॉ. अरविंद कुमार के निर्देशन में रानी लक्ष्मी बाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक यहां की परिस्थति के अनुसार नए-नए शोध कर उच्च गुणवत्ता के बीज तैयार कर रहे हैं. निदेशक प्रसार शिक्षा डॉ. एसएस सिंह ने बताया कि उन्नत किस्म के इन बीजों को किसानों तक पहुंचाने की योजना है. कम समय और कम पानी में तैयार होने वाले उच्च गुणवत्ता के दलहन और तिलहन के बीज उपलब्ध हैं.

ये ख़बर भी पढ़े: विकसित हुई गेहूं की नई किस्म एचआइ-1605, जानिए किस राज्य के किसानों को मिलेगा ज्यादा उत्पादन

latest wheat

विकसित हुई गेहूं और चने की उन्नत किस्में

इसमें चना की आर वी जी 202, 203, जेजी 36, 14,12, जेऐकेआई 9218 प्रजाति, मसूर की आईपीएल 316 प्रजाति, हरी मटर की आईपीएफडी 10-12, सफेद मटर की आईपीएफडी 11-5, अमन, आईपीएफ 5-19 प्रजाति, सरसों की गिरिराज, एनआरसीएचवी-101, आरएच-406, 749 अलसी की पार्वती, मऊ आजाद अलसी 2 और गेहूं की डीवीडब्लयू110, एचआई 1605, 1544 एच डी 2932 और जौ की डीडब्लयूआरवी 137 प्रजाति किसानों के लिए उपलब्ध हैं. इनकी बुवाई रबी मौसम में करके अधिक उपज ली जा सकती है.

अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित पते पर संपर्क कर सकते हैं-
NH-75, पहूज बांध के पास, ग्वालियर रोड,
झांसी (उत्तर प्रदेश) - 284003
फोन: 0510-2730777,2730555
ईमेल: vcrlbcau@gmail.com



English Summary: Wheat Variety: Get more yield by sowing these improved varieties of wheat

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in