1. ख़बरें

Wheat Variety: गेहूं की इन उन्नत क़िस्मों की बुवाई कर प्राप्त करें अधिक उपज

wheat

Wheat

रबी के सीजन में बुवाई हेतु विभिन्न फसलों के उन्नत बीज रानी लक्ष्मीबाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय में उपलब्ध हैं. इन बीजों की बुवाई कर किसान अच्छी पैदावार प्राप्त कर सकते हैं. विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने बुंदेलखंड की जलवायु के मद्देनजर यह बीज तैयार किए हैं. दरअसल उत्तर प्रदेश में दलहन और तिलहन के कुल उत्पादन का 60 फीसदी हिस्सा बुंदेलखंड का है. वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने की बात कही है. इसके लिए केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय ने कदम बढ़ाएं हैं.

बुंदेलखंड क्षेत्र के किसानों की आय दोगुनी करने के मकसद से कुलपति डॉ. अरविंद कुमार के निर्देशन में रानी लक्ष्मी बाई केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक यहां की परिस्थति के अनुसार नए-नए शोध कर उच्च गुणवत्ता के बीज तैयार कर रहे हैं. निदेशक प्रसार शिक्षा डॉ. एसएस सिंह ने बताया कि उन्नत किस्म के इन बीजों को किसानों तक पहुंचाने की योजना है. कम समय और कम पानी में तैयार होने वाले उच्च गुणवत्ता के दलहन और तिलहन के बीज उपलब्ध हैं.

विकसित हुई गेहूं और चने की उन्नत किस्में

इसमें चना की आर वी जी 202, 203, जेजी 36, 14,12, जेऐकेआई 9218 प्रजाति, मसूर की आईपीएल 316 प्रजाति, हरी मटर की आईपीएफडी 10-12, सफेद मटर की आईपीएफडी 11-5, अमन, आईपीएफ 5-19 प्रजाति, सरसों की गिरिराज, एनआरसीएचवी-101, आरएच-406, 749 अलसी की पार्वती, मऊ आजाद अलसी 2 और गेहूं की डीवीडब्लयू110, एचआई 1605, 1544 एच डी 2932 और जौ की डीडब्लयूआरवी 137 प्रजाति किसानों के लिए उपलब्ध हैं. इनकी बुवाई रबी मौसम में करके अधिक उपज ली जा सकती है.

अधिक जानकारी के लिए निम्नलिखित पते पर संपर्क कर सकते हैं-
NH-75, पहूज बांध के पास, ग्वालियर रोड,
झांसी (उत्तर प्रदेश) - 284003
फोन: 0510-2730777,2730555
ईमेल: vcrlbcau@gmail.com

English Summary: Wheat Variety: Get more yield by sowing these improved varieties of wheat

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News