110 दिन में तैयार होगी गेहूं की यह प्रजाति

रबी सीजन की फसलों बुवाई हो रही है. ऐसे में गेहूं का उत्पादन करने वाले कई राज्य हैं, जिनसे गेहूं की पैदावार की एक बड़ी हिस्सेदारी इन राज्यों की है. उत्तर प्रदेश गेहूं उत्पादन में एक बड़ा राज्य है इस राज्य के किसान प्रकाश रघुवंशी ने एक बड़ी उपलब्धि हासिल की है. उन्होंने गेहूं की दो देशी किस्मों को विकसित किया है. यह खोज वाराणसी जिले के कुदरत कृषि शोध संस्थान के प्रकाश रघुवंशी ने की है. गेहूं की इस किस्म का नाम कुदरत 8 और कुदरत विश्वनाथ है. यह दोनों बौनी प्रजातियाँ हैं.

इन प्रजातियों की लम्बाई लगभग 90 सेंटीमीटर और इसकी बाली की लम्बाई लगभग 20 सेंटीमीटर होती है. गेहूं की यह प्रजाति 110 दिन में तैयार हो जाती है. इसकी पैदावार 25-30 कुंतल प्रति एकड़ निकलती है. इस प्रजाति का दाना भी मोटा और चमकदार होता है. इसकी पैदावार और गुणवत्ता को देखते हुए कई राज्यों में इसकी मांग बढ़ी है . गेहूं की यह प्रजाति ओलावृष्टि जैसी समस्याओं को आसानी से झेल सकती है. अभी तक प्रकाश सिंह कृषि फसलों की 300 से अधिक प्रजातियाँ विकसित कर चुके हैं .   

-इमरान खान  

Comments