News

पीएम नरेंद्र मोदी ने किया Aarogya Van का उद्घाटन, 17 एकड़ जमीन में फैले वन में हैं तकरीबन 5 लाख औषधियां

PM kisan

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) दो दिवसीय दौरे पर गुजरात गए हैं. जहां पीएम मोदी कई कार्यक्रमों में शामिल हुए. इसके साथ ही नर्मदा जिले के केवडिया में आरोग्य वन (Aarogya Van)  का उद्घाटन किया है. आइए आपको आरोग्य वन (Aarogya Van)  की विशेषता बताते हैं.

5 लाख औषधियां वाला है आरोग्य वन

आरोग्य वन (Aarogya Van)  भारत की समृद्ध पुष्प परंपराओं, तमाम पौधों के साथ-साथ कल्याण और अच्छे स्वास्थ्य के पारंपरिक तरीकों पर आधारित है. इस वन में तकरीबन 5 लाख से ज्यादा औषधियां हैं. यह वन तकरीबन 17 एकड़ जमीन में फैला हुई है. इसमें खई तरह के औषधीय पौधे लगे हुए हैं. इसके अलावा कई आकर्षक फूलों की बहार है. सभी जानते है कि औषधीय पेड़-पौधे कुदरत द्वारा दिया गया वरदान हैं. मानवीय जीवन में पेड़-पौधों का एक विशेष महत्व है. इसमें न केवल भोजन संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ती ही होती, बल्कि जीव जगत से नाजुक संतुलन बनाने में भी सर्वोच्च स्थान है.

पीएम मोदी ने गोल्फ कार्ट से की वन की सैर

पीएम मोदी ने आरोग्य वन (Aarogya Van)  का उद्घाटन करने के बाद इसका निरीक्षण किया. उन्होंने गोल्फ कार्ट पर सवार होकर पूरे आरोग्य वन का चक्कर लगाया. इसके अलावा उन्होंने एक सेल्फी पॉइंट का भी उद्घाटन किया है. बता दें कि आरोग्य वन सरदार पटेल की प्रतिमा के नजदीक स्थित है. इसमें कई तरह की औषधीय वनस्पतियां मौजूद हैं.

औषधीय पौधे के इस्तेमाल की जानकारी देगा वन

खास बात यह है कि औषधीय पौधे के इस्तेमाल की विधि और उनके महत्व के बारे में भी यह पार्क लोगों को जानकारी देगा. इसके अलावा स्वस्थ जीवन के कई संसाधन पार्क में मौजूद होंगे. सभी लोग इनके इस्तेमाल से आरोग्यमय जीवन की ओर अपने कदम बढ़ा सकेंगे. बता दें कि पीएम मोदी आरोग्य वन के उद्घाटन के अलावा राज्य में कई अन्य परियोजनाओं की शुरुआत करने वाले हैं. इसके लिए वह गुजरात पहुंचे हैं. पीएम मोदी द्वारा आरोग्य वन के उद्घाटन के दौरान मुख्यमंत्री विजय रुपाणी और गवर्नर आचार्य देवब्रत भी मौजूद थे.



English Summary: PM Narendra Modi inaugurates Arogya van spread over 17 acres of land

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in