1. ख़बरें

पशुपालन से लेकर औषधीय खेती में भी अब किसानों को मिलेगा सरकारी लाभ

प्राची वत्स
प्राची वत्स

Fisheries

किसानों को सरकार की तरफ से एक के बाद एक सुनहरा मौका मिलता जा रहा है. मंडियों में मिली छूट और सुरक्षित मुनाफे के बाद अब सरकार ने पशुपालन से लेकर औषधि खेती में भी अलग-अलग धनराशि का प्रावधान कर दिया है. दरअसल कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा अब केंद्र सरकार की 1 लाख करोड़ की एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर की योजना है. कृषि के साथ सहायक व्यापारों के लिए भी केंद्र सरकार के पास अलग-अलग धन राशि प्रदान करने का प्रावधान है. जिसमें -

  • पशुपालन के लिए 10 हज़ार करोड़

  • मछली पालन के लिए 20 हज़ार करोड़

  • फूड प्रोसेसिंग के लिए 10 हज़ार करोड़

  • औषधीय खेती के लिए 4 हजार करोड़

  • मधुमक्खी पालन के लिए 500 करोड़ का प्रावधान है.

कुल मिलाकर किसानों के लिए 1.5 लाख करोड़ का सुनहरा मौका

केंद्र सरकार ने देश के सभी किसानों को हौसला बढ़ाते हुए कहा कि इस फण्ड का उपयोग पूरा देश करेगा, जिसके लिए वह लगातार सभी राज्यों से बात कर रहे हैं. अभी तक लगभग 10 हज़ार करोड़ की परियोजना को मंजूरी दी जा चुकी है. जिसमे 5 हज़ार करोड़ की योजनाओं को बैंकों से भी हरी झंडी मिल गयी है. मौजूदा हालत और जरूरतों के हिसाब से योजनाओं में कुछ परिवर्तन किया गया हैं.

खाद्य तेल में 80 हजार करोड़ का इम्पोर्ट

मिली जानकारी के मुताबिक, भारत सरकार ने दलहन और तिलहन के क्षेत्र में काम करना शुरू कर दिया है. भारत सरकार ने पाम ऑयल को लेकर भी बड़ा निर्णय लिया है. इन सेक्टरों में काम कर रहे किसानों की समस्याओं को देखते हुए योजना बनाई गयी है. 1 हेक्टेयर में अगर सरसों लगाया जाता है और पाम ऑयल लगाया जाता है, तो इससे लाभ में 4 गुना का अंतर होगा. खाद्य तेल की खपत को दखते हुए इसको फ्रेम किया गया है, कृषि मंत्री तोमर ने कहा इसमें हम 80 हज़ार करोड़ का इंपोर्ट करते हैं. कुल खाद्य तेल की उपलब्धता में 56 % हिस्सा पाम ऑयल का होता है. इसलिए बाकि तेलों की खेती बढ़े, लेकिन पाम ऑयल की खेती में कोई नुकसान और कमी न आए इस उद्देश्य से इसकी भी शुरुआत की गई है.

English Summary: Now farmers will get government benefits, from animal husbandry to medicinal farming

Like this article?

Hey! I am प्राची वत्स. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News