1. ख़बरें

मध्य प्रदेश के आलू किसानों ने पेप्सीको से किया अनुबंध, 11.40 रूपये प्रति किलो के दाम मिले

श्याम दांगी
श्याम दांगी

Potato Farming

नए कृषि कानूनों के विरोध के बीच मध्य प्रदेश के सिवनी जिले के किसानों ने आलू चिप्स बनाने वाली इंटरनेशनल कंपनी पेप्सीको से अनुबंध किया है. यहां के 10 किसानों से कंपनी आलू खरीदेगी. इस अनुबंध के मुताबिक कंपनी 11.40 रूपये किलो के भाव से आलू की खरीददारी करेगी. जबलपुर अंचल में आने वाले सिवनी जिले के किसान पहली बार किसी कंपनी से अपनी फसल का अनुबंध कर रहे हैं.  

70 हजार का मुनाफा

अनुबंध करने वाले किसानों का कहना है कि कंपनी के साथ अनुबंध से उन्हें प्रति एकड़ 60 से 70 रूपए का मुनाफा होने की संभावना है. जिले के गांव ढेंका के आलू किसान प्रहलाद ठाकुर का कहना है कि पिछले साल उन्होंने पेप्सीको की देखरेख में आलू की खेती की थी. उन्हें एक एकड़ से 108 क्विंटल की पैदावार हुई थी. जिसे कंपनी ने 10.75 रूपए प्रति किलो के भाव से खरीदे. कुल फसल से उन्हें 1 लाख 16 हजार रूपए मिले थे. वहीं आलू की खेती करने में लगभग 50 हजार की लागत आई थी. जबकि पैदावार से 64 हजार रूपए का शुद्ध मुनाफा हुआ था.

पहली बार किया अनुबंध

सिवनी कृषि विज्ञान केन्द्र के सीनियर कृषि विज्ञानी डा. एनके सिंह का कहना है कि यहां के किसानों को आलू की पैदावार से अच्छा मुनाफा होने की संभावना है. जिले के किसानों ने पहली बार अनुबंध किया है. किसानों ने उन्नत किस्म के आलू की बुवाई की है जो देशी आलू से काफी बड़ा होता है. अभी तक आलू की फसल 50 दिनों की हो चुकी है.

45 एकड़ में आलू की खेती

पेप्सीको कंपनी ने जिले के 10 आलू किसानों से अनुबंध किया है. यह सभी किसान लगभग 45 एकड़ में आलू की खेती कर रहे हैं. फसल फरवरी महीने में पक जाएगी जिसे कंपनी के कर्मचारी खरीदकर ले जाएंगे. जिसके बाद किसानों को उनकी फसल का भुगतान उनके बैंक खातों में ट्रांसफर हो जाएगा. किसानों का कहना है कि फसल खुदाई के बाद वाह सब्जियों की खेती करेंगे.

English Summary: Madhya Pradesh Potato farmers inked contract with PepsiCo, got Rs. 11.40 per kg

Like this article?

Hey! I am श्याम दांगी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News