News

कुंभ मेले में हुए ये ख़ास बदलाव

कुंभ मेला मकर संक्रांति के दिन से शुरू हो जाता है जिसमें लाखों की संख्या में लोग आते है. लेकिन जो लोग इस मेले में किसी कारणवश नहीं आ पाते तो ऐसे श्रद्धालुओं के लिए विष्णु पुराण में एक उपाय दिया गया है  जिससे वह घर में ही गंगा स्नान का पूरा पुण्य हासिल कर सकते है. जो श्लोक विष्णु पुराण में दिया गए है उस श्लोक का अर्थ यह है कि जो व्यक्ति सौ योजन (16 हज़ार कि.मी ) दूर से भी गंगा माता का उच्चारण कर सच्चे दिल से स्नान करते हैं  वह भी घर बैठे पुण्य कमा सकते है और अपने 3 जन्मों के पाप को काट सकते है.

इस बार कुंभ मेले में श्रद्दालुओं के लिए स्पेशल लेज़र शो का भी आयोजन किया गया है  जिसमें वह नईं तकनीक की मदद से कुंभ के महत्व के बारे में बताया जा रहा है.   

इस बार कुंभ मेले में लगभग 12 करोड़ से ज्यादा श्रद्धालुओं के आने की पूरी उम्मीद है. जिसे देखते हुए तैयारियां की जा रही हैं. प्रयागराज को 40 हज़ार से ज्यादा एलइडी लाइट और स्पाइरल लाइटों से सजाया गया है और संगम पर श्रध्दालुओं के लिए नए चेंजिंग रूम की व्यवस्था भी की गई है  जिससे किसी को भी परेशानी ना हो. डेढ़ लाख से ज्यादा शौचालय बनाए गए हैं और साफ-सफाई के लिए भी 20 हज़ार से ज्यादा कर्मचारियों को नियुक्त किया गया है.

इस बार सरकार ने  कुंभ मेले  में  Lost and Found के 15 सेंटर बनाए हैं जो आपकी सहायता करने के लिए 24 घंटे उपलब्ध रहेंगे. यदि मेले के दौरान कुछ अनहोनी हो जाए तो आप उन्हें आसानी से मदद के लिए बुला सकते हैं. इसके लिए एक मोबाइल एप भी बनाया गया है जिससे आपको बहुत सुलभता होगी.



Share your comments