1. ख़बरें

Jammu & Kashmir: लॉकडाउन के बीच श्रीनगर नगर निगम ने लोगों से किचन गार्डनिंग करने की कही बात...

सुधा पाल
सुधा पाल

इस समय जहां दुनियाभर के लोग लॉकडाउन जैसी आपातकालीन स्थिति से गुज़रते हुए अपने घरों में के कैद होकर बैठे हैं. ऐसे में लोगों को घरों में बोरियत न महसूस हो और साथ ही उन्हें अपने जरूरी खाद्य पदार्थों (सब्जियां और फल) की समस्या से जूझना न पड़े,  इसके लिए श्रीनगर नगर निगम ने लोगों से अपने घरों के आसपास खुली जगहों पर फल और सब्जियां उगाने की बात कही है.

आपको बता दें कि श्रीनगर के स्थानीय लोग, जो घनी आबादी वाले इलाकों में रह रहे हैं, उन्हें सब्जियों और फलों जैसी जरूरी चीजों को प्राप्त करने में कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है. ऐसा इसलिए क्योंकि आमतौर पर कर्फ्यू और लंबे समय तक चलने वाले हमलों की वजह से परिस्थितियां सही नहीं रहीं, और अब कोविड 19 की वजह से लॉकडाउन की भी समस्या आ खड़ी हुई है. घाटी को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने वाला श्रीनगर-जम्मू राजमार्ग, जो घाटी का एकमात्र सड़क मार्ग है, वह भी बर्फबारी और भूस्खलन के कारण बंद हो जाता है. ऐसे में लोगों के लिए दिक्कतें और भी बढ़ जाती हैं.

ज्वाइंट कमिश्नर ने जारी किया नोटिस

एसएमसी (Srinagar Municipal Corporation) के ज्वाइंट कमिश्नर गुलाम हसन मीर (Ghulam Hassan Mir) द्वारा एक सार्वजनिक नोटिस जारी किया गया है. इसके मुताबिक इस मुद्दे (फलों और सब्जियों की आपूर्ति में कमी) से निपटने के लिए, सभी नागरिकों (श्रीनगर में) के लिए अनिवार्य होगा कि वे अपने घर के आस-पास के खुले इलाकों का इस्तेमाल करें. लोग बागवानी या वृक्षारोपण भी करें क्योंकि सब्जियों-फलों की खेती के साथ बाकी पौधे लगाना भी समय का सही उपयोग होगा.

आर्किटेक्ट और इंजीनियरों को भी सुझाव

नोटिस के मुताबिक श्रीनगर में भविष्य के सभी निर्माण प्रस्तावों में सब्जी की खेती की योजना को शामिल करना है. इसके साथ ही लोग नगरपालिका सीमा के अंदर शहर में आवासीय भवन की अनुमति के लिए आवेदन करने की योजना के साथ घरेलू स्तर पर सब्जी की खेती का समर्थन करेंगे और आगे उसी के मुताबिक प्रस्ताव भी पेश करेंगे. नोटिस में उन आर्किटेक्ट और इंजीनियरों को भी सुझाव दिया गया है जो लोगों की ओर से नगरपालिका के नक्शे या योजनाएं तैयार करते हैं जिससे बागवानी (kitchen gardening) को बढ़ावा मिल सके. 

एसएमसी नोटिस में कहा गया है कि घर में सभी दैनिक उपयोग की वस्तुओं का उत्पादन नहीं किया जा सकता है. किचन गार्डन में फलों के पेड़ लगाने से कोविड -19 (COVID-19) महामारी के साथ-साथ अन्य स्थितियों में घर के बाहर रहने वाले लोगों की अनावश्यक आवाजाही को कम किया जा सकता है.

कृषि विभाग भी कई सालों से दे रहा किचन गार्डनिंग को बढ़ावा

आपको बता दें कि कृषि विभाग कई वर्षों से उच्च गुणवत्ता वाले बीज और साथ ही पौधे प्रदान करके रसोई उद्यान गतिविधियों को बढ़ावा दे रहा है. विभाग रियायती दरों पर लोगों को किचन गार्डन टूल किट भी उपलब्ध कराता है.

English Summary: Jammu & Kashmir: Srinagar Municipal Corporation asked people to do garden gardening amid lockdown ...

Like this article?

Hey! I am सुधा पाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News