आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. ख़बरें

फसली ऋण बुरे वक्त में एक अच्छा विकल्प

पिया कलवानी
पिया कलवानी
kisan

कृषि कमाई का एक अच्छ विकल्प हो सकता है आज-कल तो बड़ी नौकरियां छोड़कर खेती में हाथ आजमा रहे हैं लेकिन कई बार नई तरह की खेती करने के लिए पर्याप्त बजट नहीं होता. महंगाई के इस दौरा में किस तरह लोन लेकर खेती के विकल्प को चुना या उत्पादन को बढ़ाय जा सकता है. इसके बारे में जानना बहुत जरूरी है. क्योंकि कई बार पुराने किसानों के साथ भी ऐसा होता है कि उनके पास सही समय पर कृषि से जुड़े कामों को पूरा करने के लिए पैसे की कमी होती है. क्योंकि हर किसान के लिए उन्नत खेती करना एक सपना होता है जिसके लिए खाद, उन्नत बीज, लेटेस्ट तकनीकी मशीनें इत्यादि की खास ज़रूरत होती है. ऐस किसानों को सरकार कई तरह से मदद कर रही है और बैंकों ने लोन के द्वार खोल रखें हैं.  

महंगे ब्याज दर वाले साहूकारों से कैसे बचें किसान ?

इतिहास और फिल्में गवाह है कि पुराने जमान में बहुत से साहूकार किसानों को बहलाफुसला कर लोन देकर उनको लूटने का काम करते थे. पहले किसानों को मोटी ब्याज दर पर लोन दिया जाता था और उसे हासिल करने के लिए किसानों से उनकी जमीन तक छीन ली जाती थी. जैसे-जैसे दौर बदला तरीके और शोषण का दौर भी कम हुआ. लेकिन ऐसा नहीं है कि किसान अब साहूकारों से लोन लेकर उन्हें मोटा ब्याज नहीं चुकाते. ऐसे अभी भी कई जगह होता है. साहूकार किसान को ऋण तो दे देते हैं लेकिन इसके बदले में उनसे महंगा ब्याज लेकर लूटने का काम करते हैं. कई बार किसान साहूकारों से लिए गए ऋण को चुका नहीं पाता और परेशानियों में घिर जाता है. लेकिन अब बैंक ने कई तरह के रास्ते खोले हैं. जिनकी वजह से किसानों को साहूकारों पर निर्भर रहने की जरूरत नहीं है.

सरकारी योजनाओं और बैंकों से सस्ती ब्याज दर पर कैसे मिलेगा लोन ? (get short term loan from government schemes or banks with low interest rates)

सरकार अपनी सहकारी समितियों की मदद से किसानों के लिए कुछ ऐसे ऋण उपलब्ध कराती है जिनसे हर किसान अच्छी खेती कर ना सिर्फ अपना घर चला सकता है बल्कि उत्पादन भी बढ़ा सकता है.सरकार कम ब्याज पर फसली ऋण देकर किसानों को अपनी कृषि संबंधी जरूरतों को पूरा करने की सहूलियत देती है. हमारे देश में ऐसे कई बैंक हैं जो कम समय के लिए किसानों को ऋण देते हैं ताकि वह उन्नत खेती के लिए फसल से जुड़े सारे खर्चों को पूरा कर सकें. इस प्रकार के ऋणों को ज्यादातर फसल कट जाने के बाद एक मुश्त के रूप में चुकाया जाता है.

crop

किसे कहते हैं फसली ऋण? (what is crop loan)

जो लोन छोटे समय या कम अवधि के लिए बनाए गए हैं उन्हें अल्पकालीन फसली ऋण कहा जाता है. कम अवधि के हिसाब से बने इन फसली ऋण को अक्सर अल्पावधि या अल्पकालीन ऋण भी कहा जाता है. फसली ऋण किसान की उन जरूरतों को पूरा करता है जिनसे फसल की पैदावार में बढ़ोतरी हो पाए जैसे: निराई, बुवाई, जुताई, प्रत्यारोपण, खाद, बीज, कीटनाशक आदि.

कौन-कौन से बैंक देते हैं किसानों के लिए अल्पकालीन फसली लोन (Which banks give short term crops loan to the farmers?)

जो किसान भाई अल्पकालीन फसली ऋण लेने के बारे में विचार कर रहे हैं वह नीचे दिए गए बैंकों को चुन सकते हैं जो सस्ती ब्याज दर पर अल्पकालीन फसली ऋण देने का काम करते हैं.

  • आईसीआईसी बैंक

  • यूनियन बैंक

  • भारतीय स्टेट बैंक

  • आईडीबीआई बैंक

  • एचडीएफसी बैंक

  • आंध्र बैंक

  • बैंक ऑफ बड़ौदा

  • बैंक ऑफ इंडिया

  • यूको बैंक

  • एक्सिस बैंक

  • इलाहाबाद बैंक

  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र

  • केनरा बैंक

  • ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स

  • पंजाब एंड सिंध बैंक

  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया

  • पंजाब नेशनल बैंक

  • कॉरपोरेशन बैंक

देश के ऐसे 7 मशहूर बैंक भी हैं जो किसानों को फसली ऋण तो देते ही हैं लेकिन साथ-साथ किसानों के लिए कई प्रकार के अन्य कृषि ऋण भी उपलब्ध कराते हैं।

  • भारतीय बैंक

  • देना बैंक इंडियन ओवरसीज बैंक

  • विजय बैंक

  • सिंडिकेट बैंक

  • यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया

एसबीआई (SBI) से फसली ऋण लेने के लिए कैसे आवेदन करें? (how to apply for crops loan from SBI)

हमारे देश का सबसे बड़ा ऋण प्रदान करने वाला भारतीय स्टेट बैंक एसीसी या केसीसी (किसान क्रेडिट कार्ड) के रूप में किसानों को बेहतर फसल उत्पादन के लिए लोन देता है. इससे किसान भाइयों को काफी सारे फायदे मिलते हैं और एसबीआई फसल ऋण की विशेषताएं और लाभ इतनी हैं कि देशभर के कई सारे किसानों का रुझान इसकी तरफ बढ़ रहा है.एसबीआई (SBI) किसानों को फसल उत्पादन का खर्च, फसल कटाई के बाद होने वाले खर्च और आकस्मिकता आदि के लिए लोन देता है. इतना ही नहीं,  किसान क्रेडिट कार्ड की मदद से एटीएम से पैसे भी निकाले जा सकते हैं, और किसान पीओएस जैसी खाद भी खरीद सकते हैं.

फसल पर लोन लेने के लिए कौन-कौन से दस्तावेज चाहिए. (documents required to apply for crops loan)

  • पहचान प्रमाण पत्र के तौर पर मतदाता पहचान पत्र / पैन कार्ड / आधार कार्ड / पासपोर्ट / ड्राइविंग लाइसेंस का इस्तेमाल कर सकते हैं.

  • एड्रेस प्रूफ के लिए आधार कार्ड / वोटर आईडी कार्ड / पासपोर्ट / ड्राइविंग लाइसेंस दे सकते हैं.

  • संपर्क के लिए आपका मोबाइल नंबर, जिस पर बैंक द्वारा मैसेज भेजा जाएगा.

लोन के लिए आवेदन करने का तरीका:(Way to apply for loan)

लोन के लिए ऑफलाइन आवेदन कैसे करें ? (apply offline for loan)

आप जिस भी बैंक से फसल लोन का आवेदन करना चाहते हैं उस बैंक की नजदीकी शाखा में जाकर किसी भी बैंक अधिकारी से इस बात करें. वहां आपको एक फॉर्म उपलब्ध कराया जाएगा और फसली ऋण से जुड़ी सारी प्रक्रिया की जानकारी दी जाएगी. फिर आपको फॉर्म में मांगी गई जानकारी को बड़े ही ध्यान से भरना है. फॉर्म भरने के बाद उसे बैंक में जमा कर दें. जब आपका फसली ऋण उस बैंक से स्वीकार हो जाएगा तब आपको बैंक की तरफ से मैसेज भेजा जाएगा.

लोन के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें? (apply online for loan)

आप जिस भी बैंक से फसली लोन लेना चाहते हैं उस बैंक की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं और वहां लोन के लिए ऑनलाइन आवेदन कर दें. उदाहरण के तौर पर अगर आपको एसबीआई बैंक से फसल के लिए लोन लेना है तो उसकी वेबसाइट https://sbi.co.in/hi/web/agri-rural/agriculture-banking/crop-loan#show पर जाकर फसली ऋण की जानकारी ले और उसके लिए आवेदन करें.

English Summary: important loan scheme for farmers

Like this article?

Hey! I am पिया कलवानी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News