1. ख़बरें

खुशखबरी ! खरीफ की इन फसलों की MSP में हुई बढ़ोतरी, देखिए पूरी सूची

आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCEA) ने विपणन सीजन 2020-21 के लिए सभी अनिवार्य खरीफ फसलों के लिए 1 जून को न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) में वृद्धि को मंजूरी दे दी है. जिसमें केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने किसानों को 14 खरीफ फसलों  के सरकारी भाव को बढ़ाने की घोषणा की है. दरअसल कोरोना संकट के बीच, सरकार ने विपणन सीजन 2020-21 के लिए खरीफ फसलों के एमएसपी में वृद्धि की है, ताकि उत्पादकों को उनकी उपज के लिए पारिश्रमिक मूल्य सुनिश्चित किया जा सके. तो वही केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कैबिनेट ब्रीफिंग में कहा कि संशोधित मूल्य किसानों को लागत से लगभग 50-83 फीसद अधिक प्रदान करेगा.

MSP में हुई 50 से 83 फीसदी की वृद्धि

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि इस कोरोना महामारी में किसानों की अर्थिक स्थिति को सुधारने और राहत देने के लिए यह फैसला लिया गया है. इसमें 14 खरीफ फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य  (MSP) में 50 से 83 फीसद की वृद्धि की गई है.इसके साथ ही किसानों को 3 लाख रुपए तक के लोन पर 2 फीसद छूट भी प्रदान की जाएगी और किसानों को कर्ज चुकाने के लिए अगस्त तक समय सीमा को बढ़ाया जाएगा. इसके अलावा समय पर कर्ज चुकाने वालों को अतिरिक्त 3 फीसद तक छूट देने का भी निर्णय लिया गया है.

 इन खरीफ फसलों की MSP में हुई वृद्धि

मूंगफली (Moongfali) - 5,275 रुपए प्रति क्विंटल

सोयाबीन (Soyabean)- 3,880 रुपए प्रति क्विंटल

उड़द (Urad) - 6,000 रुपए प्रति क्विंटल

मूंग (Moong) - 7,196 रुपए प्रति क्विंटल

अरहर (Arhar) -  6,000 रुपए प्रति क्विंटल

धान (Paddy) - 1,868 रुपए प्रति क्विंटल

ज्वार (Jwar ) - 2,620 रुपए प्रति क्विंटल

बाजरा (Bajra) -  2,150 रुपए प्रति क्विंटल

मक्का (Makka) - 1,850 रुपए प्रति क्विंटल

इसके अलावा नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि कैबिनेट की बैठक में वर्ष 2020-21 के लिए मूंग, मूंगफली, रागी, सोयाबीन, तिल व कपास की न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) में 50 फीसद की बढ़ोतरी का फैसला लिया गया है.

ये खबर भी पढ़े: Zero Budget Farming: इन चार स्तंभों को अपनाकर करें खेती, मिलेगा बंपर मुनाफा

English Summary: Good News ! Increase in MSP of these Kharif crops, see complete list

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News