1. खेती-बाड़ी

Zero Budget Farming: इन चार स्तंभों को अपनाकर करें खेती, मिलेगा बंपर मुनाफा

जीरो बजट जैविक खेती (ZBNF)  कृषि का एक अच्छा विकल्प है. इससे कम लागत में ज्यादा उपज आसानी से प्राप्त की जा सकती है. हरित क्रांति (Green Revolution) के कारण फसलों के उत्पादन में काफी हद तक वृद्धि हुई, लेकिन इसमें उच्च उपज वाले विभिन्न बीजों, उर्वरकों और कीटनाशकों जैसे कृषि रसायनों के उपयोग पर जोर दिया गया. इन तरीकों ने शुरुआती चरणों में उत्पादन को बढ़ाने में मदद की लेकिन समय बीतने के साथ इसके प्रतिकूल प्रभाव भी दिखाई देने लगे.

भारतीय कृषि प्रणाली में उच्च इनपुट लागतों के कारण किसानों का संकट और कृषि संकट अकुशल विस्तार गतिविधियों, पर्यावरण क्षरण, जैव विविधता के अभाव, मिट्टी की गुणवत्ता में गिरावट और ऋण चक्र आदि समस्याएं दिखाई देने लगी. किसानों की आत्महत्या और व्यापक किसान आंदोलनों जैसी घटनाओं ने नीति निर्माताओं को अधिक लाभदायक और टिकाऊ कृषि प्रणाली के साथ आगे आने को कहा...

ऐसे में पदम सुभाष पालेकर जी को ज़ीरो बजट आध्यात्मिक खेती का विचार आया. इस कृषि तकनीक में, स्थानीय रूप से उत्पादित आदानों पर जोर दिया गया और बाहरी आदानों पर निर्भरता कम की गई. इस प्रणाली की खेती में देसी नस्लों के गोबर और गोमूत्र का उपयोग किया गया. खेतों में रसायनों के कम उपयोग से मिट्टी के सूक्ष्म जीवों का कायाकल्प हुआ और उच्च पैदावार के उत्पादन में सहायता मिली. जीरो बजट फार्मिंग  कृषि-पारिस्थितिकी के सिद्धांतों पर आधारित है और टिकाऊ कृषि पर जोर देती है.

जीरो बजट फार्मिंग के मुख्य चार स्तंभ

जीवामृता (Jivamrita)

यह मिट्टी में केंचुआ और सूक्ष्मजीवों की गतिविधि को बढ़ावा देने में मदद करती है. इसमें एरोबिक और एनारोबिक दोनों तरह के रोगाणुओं को गुणा किया जाता है. जीवामृत को संक्रमण के पहले तीन वर्षों के लिए आवश्यक है, ताकि मिट्टी के बायोटा को बहाल किया जा सके.इसे सिंचित पानी में या 10 फीसद पर्ण स्प्रे के रूप में महीने में दो बार छिड़का जाता है. एक एकड़ भूमि के उपचार के लिए 200 लीटर जीवामृत पर्याप्त है.

तैयारी - प्रति बैरल में 200 लीटर पानी डालें और 10 किलो ताजा गाय का गोबर और 5-10 लीटर  गोमूत्र डालें. 2 किलो गुड़, 2 किलो दाल का आटा और मुट्ठी भर मिट्टी डालें. फिर अच्छे से मिलाए और छाया में 48 घंटे के लिए रख दें.

बीजामृत (Bijamrita)

बीज, अंकुर और रोपण सामग्री के लिए उपयोग किया जाता है. यह बीज कोटिंग के रूप में लागू किया जाता है और फिर इन बीजों को बोया जाता है. बीजामृत को गोबर, मूत्र, चूना और मिट्टी से तैयार किया जाता है. यह युवा पौधों को रोग पैदा करने वाले रोगजनकों के हमले से बचाता है.

तैयारी - कपड़े में बांध कर 5 किलो गोबर को रात भर 50 लीटर पानी में डुबोया जाता है. फिर  5 लीटर गोमूत्र, मुट्ठी भर मिट्टी और 50 ग्राम कैल्शियम क्लोराइड को इस अर्क में मिलाया जाता है.

मल्चिंग (Mulching)

मृदा मल्च खेती के दौरान शीर्ष मिट्टी की रक्षा करता है और जल प्रतिधारण और वातन को बढ़ावा देता है. स्ट्रॉ मल्च सूखे बायोमास को संदर्भित करता है और जीवित मल्च एक ही खेत में कई फसलों को संदर्भित करता है.उच्च पैदावार के लिए इन तीन मल्च का संरक्षण और उपलब्धता बहुत आवश्यक है.

वापसा (Whapasa)

वापासा एक ऐसी स्थिति है जब मिट्टी में पानी के अणु और हवा दोनों मौजूद होते हैं. इस प्रकार जीरो बजट फार्मिंग तकनीक किसानों की सिंचाई जरूरतों को कम करने में सहायता करती है. भारत में कई राज्य सरकारों ने अलग-अलग प्रशिक्षण शिविर आयोजित करके जैविक खेती को बढ़ावा देना शुरू कर दिया है. आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश अग्रणी राज्य हैं जिन्होंने इसके प्रभावी कार्यान्वयन में भाग लिया है. मृदा संरक्षण, गुणवत्ता उत्पादन, कम कृषि व्यय और ऋण मुक्त खेती ने इस अभ्यास को स्थायी कृषि और आजीविका सुरक्षा के लिए व्यापक किसान आंदोलन बनने के लिए प्रेरित किया है.

English Summary: Zero Budget Farming: By adopting these four pillars, you will get bumper profit

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News