1. ख़बरें

भारतीय फुटबॉल संघ पर फीफा ने लगाया बैन, जानें इसके पीछे की वजह

दुनिया भर में फुटबॉल के खेल को संचालित करने वाली संस्था FIFA (इंटरनेशनल ऑफ़ एसोसिएशन फुटबॉल) ने भारतीय फुटबॉल संघ( All India Football Federation) को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दिया है. FIFA ने यह फैसला भारतीय फुटबॉल संघ के काम में बाहरी दख़लंदाजी के चलते लिया है.

देवेश शर्मा
फीफा ने भारतीय फुटबॉल पर लगे बैन
फीफा ने भारतीय फुटबॉल पर लगे बैन

भारतीय फुटबॉल फैंस और भारत के लिए आज का यह दिन निराश और दुखी करने वाला है, क्योंकि दुनिया भर में फुटबॉल के खेल को संचालित करने वाली FIFA द्वारा भारतीय फुटबॉल संघ को आंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बैन कर दिया गया है.      

FIFA ने भारत पर यह बैन तत्काल प्रभाव का उपयोग करते हुए लगाया है. फीफा द्वारा लिया गया यह फैसला भारत की अंडर-17 महिला विश्वकप मेजबानी पर सीधे तौर पर असर डालता नज़र आ रहा है. जानकारी के लिए बता दें कि जब तक यह बैन नहीं हटता है तब तक भारत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होने वाले किसी भी टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं ले सकता है.

भारत को बैन करने की ये है बड़ी वजह

FIFA ने भारतीय फुटबॉल संघ को बैन करने की वजह बताते हुए कहा है कि यह फैसला फीफा काउंसिल के ब्यूरो ने एकमत होकर तत्काल प्रभाव से लिया है. इस बड़े फैसले को लेने की वजह तीसरी पार्टी का दखल व फीफा द्वारा बनाये संविधान का उल्लंघन बताया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: अमूल और मदर डेयरी ने फिर बढ़ाई दूध की कीमत, यहां पर जानें नए रेट

भारतीय फुटबॉल संघ पर ऐसे हट सकता है बैन

FIFA द्वारा दी गयी प्रेस रिलीज़ के अनुसार, भारतीय फुटबॉल संघ पर तभी बैन हट सकता है जब ‘ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन’ कमेटी को हटाकर उसकी जगह सीओए( committee of administration)को  पूरी तरह से से शक्ति प्रदान की जाएगी. भारत पर लगे इस बैन के चलते फीफा अंडर 17 महिला विश्वकप 2022 की मेजबानी नहीं कर पाएगा, जो कि 11 से 30 अक्टूबर के बीच होने जा रही थी.

English Summary: FIFA bans the indian football federation at internatinal level Published on: 17 August 2022, 03:43 IST

Like this article?

Hey! I am देवेश शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News