1. ख़बरें

खुशखबरी! किसानों को 15 जून तक फ्री मिलेंगे दलहन और तिलहन फसलों के बीज, जानें सरकार का नया प्लान

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Agriculture News

Agriculture News

दलहन और तिलहन की खेती करने वाले किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है. दरअसल, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Agriculture Minister Narendra Singh Tomar) ने एक ‘मिनी किट’ कार्यक्रम (Minikit Programme) शुरू किया है.

यह कार्यक्रम दलहन और तिलहन की ऊंची पैदावार वाली बीजों के वितरण से जुड़ा है. इस कार्यक्रम के तहत बीजों का वितरण 15 जून 2021 तक चलाया जाएगा. बता दें कि राष्ट्रीय बीज निगम (एनसीएस), नैफेड और गुजरात राज्य बीज निगम जैसी राष्ट्रीय एजेंसियों द्वारा मिनी किट उपलब्ध कराई जा रही है. इसके साथ ही केंद्र सरकार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के माध्यम से इनके लिए पूर्ण वित्त पोषण कर रही है.

15 जून तक जारी रहेगा वितरण

किसानों को खरीफ फसलों की बुवाई से पहले बीज उपलब्ध हो सकें, इसके लिए मिनी किट कार्यक्रम के तहत बीजों का वितरण 15 जून, 2021 तक जारी रहेगा. बता दें कि किसानों को दलहन के कुल 20,27,318 मिनी किट उपलब्ध होंगी, तो वहीं सोयाबीन के 8 लाख से ज्यादा और मूंगफली के 74,000 मिनी किट निशुल्क दी जाएंगी.

आधिकारिक बयान के अनुसार

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा बीज ‘मिनी किट’ कार्यक्रम की शुरुआत दलहन और तिलहन की ऊंची पैदावार वाली बीजों के वितरण के साथ हुई. नरेंद्र सिंह तोमर का कहना है कि केंद्र राज्यों की मदद से दलहन और तिलहन का उत्पादन व उत्पादकता बढ़ाने के लिए विभिन्न गतिविधियों कार्यान्वयन करती हैं और यह राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत संभव होता है.

दलहन और तिलहन का बढ़ा उत्पादन

कृषि मंत्रालय की मानें, तो साल 2014-15 से दलहन और तिलहन का उत्पादन बढ़ाने पर नए तरीके से ध्यान दिया जा रहा है. इस तरह तिलहन का उत्पादन 2014-15 में 2.751 करोड़ टन था, जो कि 2020-21 में बढ़कर 3.657 करोड़ टन हो गया है. इसके अलावा दलहन का उत्पादन 1.715 करोड़ टन से बढ़कर 2.556 करोड़ टन हुआ है.

English Summary: Farmers will get free seeds of pulses and oilseed crops till June 15

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News