1. ख़बरें

FAI Annual Seminar: उर्वरक और कृषि चुनौतियों पर 3 दिन तक चलेगा ये विशाल कार्यक्रम

FAI Annual Seminar 2021

भारतीय उर्वरक संघ (FAI) 1 से 3 दिसंबर को इंडिया हैबिटेट सेंटर (Indian Habitat Centre, New Delhi, India) में 'उर्वरक और कृषि में चुनौतियां' (Fertilizers and agriculture challenges) विषय पर अपना वार्षिक संगोष्ठी 2021 (FAI Annual Seminar) आयोजन शुरू कर दिया है. इसमें आर्थिक नीतियों, जलवायु-लचीला कृषि, उर्वरक उत्पादन में तकनीकी प्रगति और उर्वरक उत्पादों के विपणन में दक्षता से संबंधित मुद्दों पर प्रस्तुतियां भी पेश होंगी.

एफएआई वार्षिक संगोष्ठी: सत्र (FAI Annual Seminar: Sessions)

  • सत्र 1: भारतीय उर्वरक क्षेत्र की चुनौतियां

  • सत्र 2: कृषि में चुनौतियों का सामना

  • सत्र 3: सतत उर्वरक उत्पादन

  • सत्र 4: उर्वरक विपणन के लिए रणनीतियाँ

इस अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में कई प्रतिष्ठित वक्ताओं के भाग लेने की उम्मीद है, जिसमें विदेशी प्रतिनिधि भी शामिल हैं, जिसमें नीति निर्माता, उद्योग के दिग्गज और राष्ट्रीय और वैश्विक संस्थानों के विशेषज्ञ शामिल होंगे.

सेमिनार में शामिल हुई महान हस्तियां (Great personalities attended the seminar)

सतीश चंदर, महानिदेशक, एफएआई (Satish Chander, Director General, FAI), केएस राजू, अध्यक्ष, एफएआई (KS Raju, President, FAI) और त्रिलोचन महापात्र, सचिव (डेयर) और महानिदेशक, आईसीएआर (Trilochan Mohapatra, Secretary (DARE) and Director General, ICAR) ने मिलकर वार्षिक संगोष्ठी 2021 का उद्घाटन किया. इस सत्र में सभी गणमान्य व्यक्तियों को बधाई दी गई.

इस अंतरराष्ट्रीय संगोष्ठी में कई प्रतिष्ठित वक्ताओं ने भाग लिया, जिसमें विदेशी प्रतिनिधि भी शामिल हैं, जिसमें नीति निर्माता, उद्योग के दिग्गज और राष्ट्रीय और वैश्विक संस्थानों के विशेषज्ञ शामिल होंगे. साथ ही डॉ. त्रिलोचन महापात्र ने सतीश चंद्र और के.एस राजू के साथ इस वर्ष के एफएआई प्रकाशनों का विमोचन किया.

उर्वरक और कृषि में चुनौतियां (Fertilizers and challenges in agriculture)

भारतीय कृषि क्षेत्र न केवल विशाल राष्ट्र की खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करता है, बल्कि 2020-21 में देश के कुल वस्तु निर्यात में 14 प्रतिशत का योगदान देता है. भारत 2020-21 में दुनिया में चावल का सबसे बड़ा निर्यातक था.

महामारी के दौरान जब अन्य सभी आर्थिक गतिविधियां प्रतिकूल रूप से प्रभावित हुई थीं, तब कृषि क्षेत्र का प्रदर्शन आशातीत रहा है. 2020-21 में 3.6% की सकारात्मक वृद्धि के साथ कृषि ने अर्थव्यवस्था को स्थिरता प्रदान की. इस तरह की उपलब्धियां हासिल करने के बावजूद इस क्षेत्र को कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. यह क्षेत्र कम फसल उत्पादकता और संसाधनों के उपयोग में अक्षमता से ग्रस्त है.

उन्नत कृषि प्रौद्योगिकियों को अपनाना और कृषि-आदानों का अकुशल उपयोग मिट्टी के स्वास्थ्य में गिरावट और कम फसल पैदावार के लिए काफी हद तक जिम्मेदार है, जो मध्यम से लंबी अवधि में टिकाऊ नहीं है.

कृषि क्षेत्र में चुनौतियों को दूर करने के लिए, कुशल जल प्रबंधन, एकीकृत पोषक प्रबंधन, फसल विविधीकरण और जलवायु-लचीला कृषि जैसे उपायों पर विचार करना आवश्यक है. उर्वरक क्षेत्र के लिए मौजूदा नीतियों से उत्पन्न चुनौतियां भी हैं. 

उद्योग को यूरिया इकाइयों के लिए निश्चित लागत और ऊर्जा की लागत सहित विभिन्न मदों के तहत लागत की कम वसूली के मुद्दों का सामना करना पड़ रहा है. जटिल उर्वरकों का निर्माण आंशिक रूप से मौजूदा कराधान व्यवस्था के कारण आयात से अनुचित प्रतिस्पर्धा का सामना करता है.

English Summary: FAI Annual Seminar: This huge program will run for 3 days on fertilizer and agriculture challenges

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

Top Stories

More Stories

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters