Farm Activities

यूरिया, डी.ए.पी., जिंक सल्फेट और पोटाश उर्वरक की पहचान ऐसे करें ?

किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत और सशक्त बनाने के लिए केंद्र व राज्य सरकार समय - समय पर अलग - अलग योजनाएं लाती रहती है. मौजूदा मोदी  सरकार भी इसे लेकर काफी गंभीर है. मोदी सरकार ने साल 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है हालांकि ये तभी संभव है जब किसानों के पास उन्नत किस्म के बीज, नवीन कृषि यंत्र, सिंचाई के लिए पानी की समुचित व्यवस्था और सही उर्वरक और कीटनाशक आदि होगा.  गौरतलब है कि आजकल बाजार में उर्वरक की कमी होने के चलते नकली उर्वरक को असली उर्वरक बताकर बेचा जा रहा है. नकली उर्वरक खेत में डालने पर फसल में कोई फायदा भी नहीं होता जबकि किसान को पूरा दाम देना पड़ता है. ऐसे में आइए आज हम आपलोगों को असली और नकली उर्वरक की पहचान बताते है जिन्हें आप अपनाकर असली खाद की पहचान कर सकते हैं और धोखा खाने से बच सकते हैं.

असली खाद के पहचान

 डी.ए.पी.

डी.ए.पी.के कुछ दानों को हाथ में लेकर तंबाकू  की तरह उसमें चूना मिलाकर मलने पर यदि उसमें से तेज गंध निकले जिसे सूंघने में दिक्कत होने लगे तो समझ जाइये की डी.ए.पी. असली है. डी.ए.पी.को पहचानने की एक और सरल विधि है.  यदि हम डी.ए.पी. के कुछ दाने धीमी आंच पर तवे पर गर्म करें यदि ये दाने फूल जाते है तो समझ लें यही असली डी.ए.पी. है.  असली डी.ए.पी. खाद पहचानने का एक और भी तरीका है.  इसके कठोर दाने  भूरे काले एवं बादामी रंग के होते है और ये नाखून से आसानी से नहीं टूटते हैं.

यूरिया

यूरिया की असली पहचान है इसके सफेद चमकदार लगभग समान आकार के कड़े दाने इसका पानी में पूर्णतया घुल जाना तथा इसके घोल को छूने पर शीतल अनुभूति होना ही इसकी असली पहचान है. यूरिया को तवे पर गर्म करने से इसके दाने पिघल जाते है यदि हम आंच तेज कर दें और इसका कोई अवशेष न बचे तो समझ लें यही असली यूरिया है.

सुपर फास्फेट

सुपर फास्फेट की असली पहचान है इसके सख्त दाने तथा इसका भूरा काला बादामी रंग. इसके कुछ दानों को गर्म करें यदि ये नहीं फूलते है तो समझ लें यही असली सुपर फास्फेट है ध्यान रखें कि गर्म करने पर डी.ए.पी. व अन्य काम्प्लेक्स के दाने फूल जाते है जबकि सुपर फास्फेट के नहीं इस प्रकार इसकी मिलावट की पहचान आसानी से की जा सकती है. सुपर फास्फेट नाखूनों से आसानी से न टूटने वाला उर्वरक है. किसान ध्यान रखें इस दानेदार उर्वरक में मिलावट बहुधा डी.ए.पी. व एन.पी.के. मिक्स्चर उर्वरकों के साथ की जाने जाने की संभावना बनी रहती है.

पोटाश

पोटास की असली पहचान है इसका सफेद कड़ाका नमक तथा लाल मिर्च जैसा मिश्रण. पोटाश के कुछ दानों को नम करें यदि ये आपस में नही चिपकते है तो समझ लें की ये असली पोटाश है. किसान भाइयों एक बात और पोटाश पानी में घुलने पर इसका लाल भाग पानी में ऊपर तैरता रहता है.

जिंक सल्फेट

जिंक सल्फेट की असली पहचान ये  है कि इसके दाने हल्के सफेद पीले तथा भूरे बारीक कण के आकार के होते है.  जिंक सल्फेट में प्रमुख रूप से मैगनीशियम सल्फेट की मिलावट की जाती है. भौतिक रूप से सामान्य होने के कारण इसके असली व नकली की पहचान करना कठिन होता है. एक बात और डी.ए.पी. के घोल मे जिंक सल्फेट का घोल मिलाने पर थक्केदार घना अवशेष बनाया जाता है.  जबकि डी.ए.पी. के घोल में मैगनीशियम सल्फेट का घोल मिलाने पर ऐसा नही होता है.  यदि हम जिंक सफेट के घोल मे पलती कास्टिक का घोल मिलायें तो सफेद मटमैला मांड जैसा अवशेष बनता है.  यदि इसमें गाढ़ा कास्टिक का घोल मिला दें तो ये अवशेष पूर्णतया घुल जाता है. इसी प्रकार यदि जिकं सल्फेट की जगह पर मैगनीशियम सल्फेट का प्रयोग किया जाय तो अवशेष नहीं घुलता है.

बता दे कि बाजार में नकली उर्वरकों का बाजार इतना बढ़ चुका है कि उर्वरक इंडस्ट्री को इससे काफी परेशानी हो रही है. इसी को रोकने के लिए बीते दिनों  राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एक सम्मलेन का आयोजन किया गया था. इस सम्मलेन का मुख्य उद्देश्य गुणवत्तायुक्त फसल सुरक्षा उत्पादों के जरिये किसानों के लिए अवसर और चुनौतियों को खोजना रखा गया था.



Share your comments