1. ख़बरें

खाद्यान और चीनी की पैकिंग जूट बैग में अनिवार्य

KJ Staff
KJ Staff
Jute

Jute Bags

आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने चीनी और (ए.आई.सी.सी.) खाद्यान्न उत्पादों की जूट के बोरों (Jute Bags) में पैकिंग को अनिवार्य कर दिया है. यह नियम जून 2018  में समाप्त हो रहे वर्ष के लिए बनाया गया है.

किसानों की आजीविका की जरूरत होगी पूरी

सरकार का यह कदम सराहनीय है इस कदम से जूट की मांग (Demand of Jute) बरकरार रहेगी. इसी के साथ ही इस काम में लगे मजदूरों और किसानों की आजीविका की जरूरत को भी पूरा किया जा सकेगा.

देश के पश्चिम बंगाल, बिहार, ओडिशा, असम, आंध्र प्रदेश, मेघालय और त्रिपुरा में एक बड़ा तबका जूट का काम करता है. जिससे की उनकी आजीविका चलती है. सी-ने जूट पैकिंग सामग्री अधिनियम ए.ई.सी. 1987 के तहत अनिवार्य पैकिंग नियमों का विस्तार किया है.

इस नियम के मुताबिक अब 90 फीसदी खाद्यान्नों और 20 फीसदी चीनी उत्पादों की पैकिंग जूट के बोरों में किया जाना अनिवार्य है. बयान में कहा गया है कि पहली बार में पूरे खाद्यान्नों को पैक करने के लिए जूट के बोरों का इस्तेमाल करने का प्रावधान है.

इस नियम के मुताबिक अब 90 फीसदी खाद्यान्नों और 20 फीसदी चीनी उत्पादों की पैकिंग जूट के बोरों में किया जाना अनिवार्य है. बयान में कहा गया है कि पहली बार में पूरे खाद्यान्नों को पैक करने के लिए जूट के बोरों का इस्तेमाल करने का प्रावधान है.

English Summary: Essentials in the packing of food and sugar in jute bags

Like this article?

Hey! I am KJ Staff. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News