MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

केसीसी लोन चुकाने के बाद भी किसान बने कर्जदार, जानिए क्या है पूरा मामला

किसानों को कितनी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, हम सभी इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं. कई बार किसान कर्ज में डूब जाता है, लेकिन फिर भी वह खेती कर अनाज का उत्पादन करता है. अगर किसानों के कर्ज की बात करें, तो किसान केसीसी के माध्यम से लोन लेकर फसलों का उत्पादन करते हैं.

स्वाति राव
Farm Loan
Farm Loan

किसानों को कितनी समस्याओं का सामना करना पड़ता है, हम सभी इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं. कई बार किसान कर्ज में डूब जाता है, लेकिन फिर भी वह खेती कर अनाज का उत्पादन करता है. अगर किसानों के कर्ज की बात करें, तो किसान केसीसी के माध्यम से लोन लेकर फसलों का उत्पादन करते हैं. किसानों के ऊपर कर्ज इतना बढ़ जाता है कि वो आत्महत्या करने पर मजबूर हो जाते हैं.

ऐसा ही एक मामला मध्य प्रदेश से सामने आया है. जहाँ किसान लोन चुकाने के बाद भी कर्ज के भागीदार बने हुए हैं. इसके चलते किसानों ने एक हैरान कर देने वाला कदम उठाया है.

आपको बता दें कि मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले से एक मामला सामने आय़ा है कि यहां कुछ किसानों ने केसीसी के तहत लोन लिया था. इस लोन को चुकाने के बावजूद भी बैंक अपने रिकोर्ड में उन्हें कर्जदार साबित कर रही है. ऐसे में वे किसान कर्ज (Farm Loan) और बैंक अधिकारियों के रवैये से परेशान हैं और उन्होंने पेट्रोल और सल्फास लेकर आत्मदाह करने दी धमकी दी है. उन्होंने कहा है कि अगर उनका कर्ज माफ कर उनकी जमीन मुक्त नहीं की गई, तो वे बैंक परिसर में ही आत्महत्या कर लेंगे.

किसानों की मानें, तो एक साल पहले भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के द्वारा किसान क्रेडिट कार्ड स्कीम के तहत लोन लिया था, जिसको किसान चुका चुके हैं. मगर अब बैंक के अधिकारी इस बात से इनकार कर रहे हैं कि किसान कर्ज चुका चुके हैं औऱ बैंक ने कागजों में किसानों को कर्जदार ही साबित कर रखा है.

इस खबर को पढ़ें - Kisan Credit Card: अगर 15 दिन के भीतर नहीं मिले KCC, तो इस नंबर पर करें शिकायत

ऐसे में किसानों का कहना है कि बैंक द्वारा लिए लोन को चुकाने के बाबजूद भी हम कर्जदार हैं.

अब हमारे पास पैसा भी नहीं है कि अब कर्ज को दोबार चुका सकें, इसलिए हम सभी के पास आत्महत्या करने के अलावा कोई और रास्ता नहीं है.  इस पूरे मामले में ब्रांच मैनेजर कन्हैया लाल अग्रवाल का कहना है कि किसानों से समझौता हुआ था. उनका पैसा उनके खाते में जमा है, लेकिन तभी से योजना बंद पड़ी है. यही वजह है कि उनका समझौता फैल हो गया है. रिश्वत मांगने संबंधी आरोप निराधार हैं

English Summary: double hit of debt on the farmers of the state, forced to commit suicide Published on: 11 January 2022, 04:47 PM IST

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News