1. सरकारी योजनाएं

Goat Farming Business: बकरी पालन बिजनेस पर लोन, सरकारी योजनाएं और सब्सिडी

Goat Farming

भारत दुनिया में बकरी के दूध और बकरी के मांस (Goat Meat) के सबसे बड़े उत्पादकों में से एक है. बकरी के दूध की बढ़ती मांग के साथ,  देश के काफी किसान अब बकरी पालन व्यवसाय (Goat Farming Business) कर रहे हैं. बकरी पालन व्यवसाय का लाभ (Goat Farming Business Profits) पूरी तरह से निवेश पर निर्भर है, और यही कारण है कि वित्तीय सहायता इस व्यवसाय में एकमात्र समस्या है.

अगर कहीं से वित्तीय सहायता मिल जाए, तो इस बिजनेस को करना बेहद आसान है. इसी के मद्देनजर किसानों के बीच बकरी पालन व्यवसाय को प्रोत्साहित (Encourage the Goat Farming Business) करने के लिए, सरकार कई ऋण और सब्सिडी योजनाएं लेकर आई है. गौरतलब है कि बकरी पालन व्यवसाय मौसम और पर्यावरण पर निर्भर होता है और यही कारण है कि भारत में बकरी पालन मुख्य रूप से उड़ीसा, झारखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तेलंगाना और तमिलनाडु आदि राज्यों में किया जाता है.

बकरी पालन के लिए ऋण कौन देता है? (Who Gives Loan for Goat Farming?)

नेशनल बैंक ऑफ एग्रीकल्चर एंड रूरल डेवलपमेंट (NABARD) और अन्य स्थानीय बैंकों के सहयोग से, सरकार बकरी पालन के लिए कई ऋण और सब्सिडी नीतियां लेकर आई है. अगर आप Goat Farming शुरू करना चाहते हैं, तो आपको नाबार्ड और अन्य बैंकों से सब्सिडी मिल सकती है. आप बकरियों की खरीद की कुल लागत के 25% से 35% तक की सब्सिडी राशि का भी लाभ उठा सकते हैं.

बहुत से लोग Goat Farming शुरू करने के लिए सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली ऋण और सब्सिडी योजनाओं के बारे में नहीं जानते हैं. ऐसे में आइए जानते हैं क्या है व्यक्तियों के लिए पात्रता मानदंड-

व्यक्तियों के लिए पात्रता मानदंड (Eligibility Criteria for Individuals)

  • स्टार्ट-अप उद्यमी

  • छोटे किसान और सीमांत किसान

  • बेरोजगार व्यक्ति

  • कुशल व्यक्ति

बकरी फार्म (goat farms ) के पास उचित परिवहन सुविधा होनी चाहिए और अन्य सभी सुविधाएं जैसे उचित स्वच्छता और जल प्रबंधन सुविधा भी उपलब्ध होनी चाहिए.

बकरी पालन के लिए नाबार्ड ऋण (NABARD loan for Goat Farming)

नाबार्ड निम्नलिखित संस्थाओं की सहायता से बकरी पालन के लिए ऋण प्रदान (NABARD Provides Loan for Goat Farming) करता है-

  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक

  • राज्य सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक

  • राज्य सहकारी बैंक

  • शहरी बैंक

  • वाणिज्यिक बैंक

नाबार्ड की योजना के तहत गरीबी रेखा, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों को बकरी पालन पर 33 फीसदी सब्सिडी पर मिलती है. वहीं ओबीसी और सामान्य वर्ग के अंतर्गत आने वाले लोगों को अधिकतम 2.5 लाख रुपये पर 25% सब्सिडी मिलती है. वहीं ऋण चुकौती अवधि 12 वर्ष तक होती है.

क्या कोई अन्य बैंक बकरी पालन ऋण प्रदान कर रहा है? (Are there any other Banks Providing Goat Farming Loans? )

नाबार्ड के अलावा, कुछ अन्य बैंक भी Goat Farming Business के लिए लोन प्रदान करते हैं, जो निम्नलिखित हैं-

  • भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई)

  • आईडीबीआई बैंक

  • महाराष्ट्र बैंक

  • केनरा बैंक

  • क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक

  • सहकारी बैंक

बकरी पालन पर लोन के लिए जरूरी दस्तावेज क्या हैं? (What are the Documents Required for Goat Farming Loan Application?)

  • निवास प्रमाण पत्र

  • आय प्रमाण

  • आधार कार्ड

  • 4 पासपोर्ट साइज फोटो

  • बीपीएल कार्ड, यदि उपलब्ध हो

  • जाति प्रमाण पत्र, यदि आवेदक एससी/एसटी/ओबीसी हो

  • मूल निवासी प्रमाण पत्र

  • बकरी पालन परियोजना रिपोर्ट

  • मूल भूमि रजिस्ट्री कागजात

एक बार आवेदन जमा हो जाने के बाद, स्वीकृत होने में कुछ सप्ताह लग सकता है. वैसे छोटे किसानों को बकरियों की कम संख्या से शुरुआत करनी चाहिए, एक बार जब कुछ अनुभव और लाभ प्राप्त हो जाए, तो बकरियों की संख्या में और बढ़ोतरी किया जा सकता है.

नोट- अपनी बकरियों के साथ अच्छा व्यवहार करें, ऐसा आपके द्वारा करने से आपको निश्चित रूप से अच्छा रिटर्न मिलेगा. 

ऐसी ही और जानकारी के लिए कृषि जागरण से जुड़े रहें...!!

English Summary: Loan on Goat Farming Business, Government Schemes and Subsidies

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News