1. ख़बरें

केंद्र सरकार की बड़ी पहल, हर एक जिले में पशुओं के लिए खुलेंगे ट्रामा सेंटर

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Agriculture News

Animal

केंद्र सरकार द्वारा एक नई पहल की गई है, जिसके तहत अब पालतू जानवारों को एक खास तरह की सुविधा प्रदान की जाएगी. दरअसल, अब केंद्र सरकार पालतू जानवरों के लिए ट्रॉमा सेंटर खोलने की तैयारी में लगी है.

सरकार की इस प्लान के तहत हर जिले में मवेशियों के लिए कई तरह की सुविधाएं दी जाएंगी. जैसे, मवेशियों के​ साथ रहने के लिए एक अटेंडेंट, अलग से वार्ड समेत इमरजेंसी सेवा के लिए एम्बुलेटरी वाहन भी दिया जाएगा. खास बात यह है कि  इस प्लान पर काम शुरू भी कर दिया गया है, जिसमें उत्तर प्रदेश, हरियाणा, गुजरात, मध्य प्रदेश, बिहार और दिल्ली का नाम शामिल है.

पशुपालन मंत्रालय के मुताबिक...(According to the Ministry of Animal Husbandry)

यह पशुओं के इलाज के लिए उठाया गया एक सार्थक फैसला है. इन ट्रामा सेंटर की मदद से पशुओं की बीमारियों का इलाज होगा. अगर कोई पशु गंभीर रुप से बीमार है, तो मवेशियों को भर्ती कराया जाएगा. इसके साथ ही अस्पतालों में वार्ड की तर्ज पर बड़े-बड़े हॉल बनाए जाएंगे, जहां एक हॉल में लगभग 10  पशुओं को रखा जाएगा.

ट्रामा सेंटर पर सुविधाएं (Facilities at Trauma Center)

  • हर ट्रामा सेंटर में 5 एम्बुलेटरी वाहनों की सुविधा दी जाएगी, ताकि इनके जरिए मवे​​शियों को ट्रामा सेंटर तक लाया जा सके.

  • एम्बुलेटरी वाहनों में पशुओं के इलाज के लिए सभी तरह के इक्विपमेंट्स लगे होंगे.

  • हर ट्रामा सेंटर में 2 से 3 शल्य चिकित्सक और एक सामान्य चिकित्सक भी होगा.

  • इसके अलावा कुछ ​असिस्टेंट्स और अटेंडेंट्स की भी भर्ती होगी.

  • पशुपालकों के ठहरने के लिए भी वार्ड बनाया जाएगा.

  • हर ट्रामा सेंटर में दवा रखने के लिए स्टोर भी बनाए जाएंगे.

बिहार और यूपी में शुरू हुआ काम (Work Started in Bihar and UP)

इसकी शुरुआत बिहार और उत्तर प्रदेश में हो चुकी है. इसके अलावा बिहार के कई जिलों में इस पर काम किया जा रहा है. मौजूदा समय में यह सुविधा पटना में है, लेकिन इसे दूसरे राज्यों में भी बढ़ाया जा रहा है.

गौरतलब है कि देशभर के कई इलाकों में पशुपालकों को पशुओं के इलाज के लिए भटकना पड़ता है. ऐसे में हर जिले में ट्रामा सेंटर खुलने के बाद एक बड़ी राहत मिलेगी.  

English Summary: Central Government Trauma Center for animals in every district

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News