1. मशीनरी

ये राज्य सरकार रोटावेटर, हैपीसीडर समेत इन मशीनरीयों पर दे रही है 50% सब्सिडी

Machinery

वायु प्रदूषण इन दिनों देश की राजधानी दिल्ली के लिए सबसे बड़ी समस्या बना हुआ है. इस गंभीर समस्या से छुटकारा पाने के लिए केंद्र और राज्य दोनों ही सरकारें अलग-अलग हथकंडे भी अपना रही  है. इसी कड़ी में धान की पराली व गेहूं की नाड़ से होने वाले प्रदूषण पर अंकुश लगाने के लिए सरकार ने उन सभी कृषि यंत्रों पर किसानों को 50 फीसद तक सब्सिडी देना चालू कर दिया है जिनसे धान की पराली व गेहूं की नाड़ से होने वाले प्रदूषण पर अंकुश लगेगा.

गौरतलब है इसके नतीजे अभी नज़र नहीं आएंगे बल्कि आगामी फसल के समय पर नजर आएंगे. अब किसान भी पराली व गेहूं की नाड़ से निपटारे के लिए भारी संख्या में इन मशीनरी की खरीददारी कर रहे  है. अब इन कृषि उपकरणों से धान की कटाई के बाद पराली व गेहूं की कटाई के बाद नाड़ का आसानी से हल निकल सकेगा. पंजाब के नवांशहर (नौशार) जिले में अब तक ऐसे 180 उपकरणों की खरीद की जा चुकी है. 

बताते चले कि अब तक किसान पराली व गेहूं की नाड़ के निपटारे की सही व्यवस्था नहीं होने के वजह से खेतों में इन्हें आग लगा देते थे. सरकार की तमाम रोक व बंदिशों के बावजूद 192 पराली जलाने के मामलों को पकड़ा गया. इसलिए पंजाब सरकार सब्सिडी पर मशीनरी उपलब्ध करवा रही है. इस योजना के तहत सरकार किसानों को 50% तक सब्सिडी दे रही है, जबकि किसान ग्रुपों के द्वारा इस मशीनरी की खरीद पर 80% तक सब्सिडी दी जा रही है.

इन उपकरणों पर मिल रही है सब्सिडी

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि सब्सिडी के उपकरणों में स्ट्रा चौपर, मरल्चर, हैपीसीडर, हाइड्रो मोल्ड बोल्ड प्लाओ, सुपर एसएमएस, जीरोटिल ड्रील, सरब कटर स्पैडर, रोटावेटर समेत रोटरी स्लेशर शामिल है.

बता दें कि धुंए और धुंध की चादर ने इन दिनों पूरे दिल्ली एनसीआर को अपनी गिरफ्त में ले लिया है. जिसका सीधा असर लोगों के सेहत पर देखने को मिल रहा है.

English Summary: These State Government is giving rotavator, heapseedder and these machinery to 50% subsidy.

Like this article?

Hey! I am विवेक कुमार राय. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News