1. मशीनरी

लॉकडाउन में अगर फसल के भण्डारण की आ रही है समस्या, तो डाउनलोड करें ये ऐप

बदलते हुए समय के साथ गांव-देहात में पहले की तरह अनाज संग्रह करने या उसकी भंडारण करने के लिए अलग कक्षों का अभाव होने लगा है. ऐसे में जगह की कमी के कारण संग्रह का  कार्य मुश्किल होता जा रहा है. यही कारण है कि अच्छी फसल होने के बाद भी भण्डारण की समस्या किसानों को परेशान कर रही है. ऐसे समय में जह देशभर में लॉकडाउन घोषित है. वहीं ग्रामीण क्षेत्रों फिलहाल कोल्ड स्टोर का अभाव है.

हालांकि, अधिकतर जिलों और ब्लाक में इसकी खास व्यवस्था की गई है, लेकिन जानकारी के अभाव में वहां अधिकतर किसानों का जाना नहीं हो पाता है, ऐसे में उनका होना कुछ खास लाभकारी प्रतीत नहीं होता. खैर किसानों की इस बड़ी समस्या का समाधान हो गया है. दरअसल एनआइटी के सीएस विभाग के छह छात्रों ने किसानों को बड़ी राहत देते हुए इस मुद्दे पर अनोखा काम किया है.

ऐप की विशेषता

इन छात्रों ने किसानों के लिए एक खास तरह का ऐप बनाया है, जिसका नाम स्टोर रूम है. यह ऐप किसानों को नजदीकी स्टोर रूम के बारे में विस्तार से जानकारी देती है. इसके सहारे पता लगाया जा सकता है कि किस स्टोर रूम में कितनी जगह बची है या किसी उत्पाद के लिए किस तरह के स्टोर रूम्स का होना जरूरी है. इसके साथ ही स्टोर की अन्य तरह की जानकारियां भी इस ऐप के सहारे ली जा सकती है.

निशुल्क है सेवा

अच्छी बात यह है कि इसको उपयोग करने के लिए किसी तरह की पैसों की जरूरत नहीं है और न ही इसे बहुत अधिक इंटरनेट की आवश्यकता है. बहुत कम डेटा के सहारे भी इसका उपयोग कर सारी जानकारी के किसान भाई इसका निशुल्क इस्तेमाल कर सकते हैं.

मिलेगें ऐसे फायदें

ये ऐप पूरे क्षेत्र के स्टोर रूम की जानकारी देने में सक्षम है. इस सेवा को मैसेज के रूप में भी उपलब्ध कराया जाएगा. फसलों को स्टोर करने के लिए किसानों को बस अपने उत्पादों का ब्यौरा टोल फ्री नंबर पर मैसेज करना है, जिसके बाद आगे की जानकारी प्रदान की जाएगी.

यहां से करें ऐप इंस्टाल

ऑनलाइन इंस्टॉलेशन के लिए आप गूगल प्ले स्टोर पर जाकर इसे डाउनलोड कर सकते हैं. आप वहां अन्य किसानों की प्रतिक्रयाएं भी देख सकते हैं.

English Summary: now you can know each and everything about storage by the help of this application

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News