1. लाइफ स्टाइल

इन 10 विषैले पौधों को घर से रखें दूर

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा
Plants

Plants

पेड़-पौधों का शुरु से हमारे जीवन में महत्व रहा है और हम भी कईं पौधों को घर के अंदर कईं कारणों से रखते हैं जैसे हवा के शुद्धिकरण और सजावट हेतु. कईं पौधे रोगों से मुक्ति देते हैं जैसे तुलसी, पुदिना, गिलोय, पीपल, बरगद, केला, लेमन ग्रास, पपीता आदि परंतु एक प्रमुख समस्या यह है कि हमारे आपके घरों में रहने वाले बच्चे और जानवर (कुत्ता, बिल्ली) अक्सर पत्तों को तोड़ते और खा भी लेते हैं.

 परंतु कुछ विषैले पौधे ऐसे हैं जिन्हें खाने के बाद स्वास्थ्य बिगड़ सकता है और मृत्यु भी हो सकती है इसीलिए कुछ पौधों को घर में रखने से बचना चाहिए. इन पौधों के सेवन से भांति भांति के चर्म रोग हो सकते हैं या फिर उदर संबंधी रोग पैदा हो सकते हैं. कुछ पौधों का जह़र सीधा मस्तिष्क पर असर कर सकता है जिससे पागलपन और मस्तिष्क असंतुलित हो सकता है.

कैसे फैलता है घरेलू पौधों से विष? (How is poison from houseplants spread?)

इन विषैले पौधों के संपर्क में आने अर्थात गलती से सेवन या इनकी पत्तियों के स्पर्श से

  • इन पौधों के फल, पत्तियों और जड़ों के सेवन के कारण

  • त्वचा का इन पौधों से निकलने वाले रस के संपर्क में आना

  • इनके द्वारा निकलने वाले तेल के कारण

  • इन पौधों के संयंत्र क्षेत्र में पानी पीने के कारण

आइए जानते हैं उन 10 विषैले पौधों के बारे में (Let's know about those 10 poisonous plants)

1. डंबकेन

यह विषैला पौधा अक्सर घरों में पाया जाता है परंतु आपको नहीं पता कि इससे निकलने वाला रस जीवा को जला सकता है और गला एवं स्वास नली के ले नुकसानदेह है। इसीलिए इसे घर से दूर ही रखें क्योंकि यह बच्चों को नुकसान पहुंचा सकता है. इसीलिए यह मानव और जानवर दोनों के लिए हानिकारक है.

2. पिस लिली

इस पौधे कि बहुत सी किस्में पाईं जाती हैं और इस पौधे के फूल घरों में अक्सर पाए जाते हैं। यह पौधा वायु शुद्धिकरण के लिए उत्तम समझा जाता है परंतु यदि गलती से इसके फूल या पत्तों का सेवन हो जाए तो यह जानलेवा है. इसके सेवन से होठों में जलन और सूजन आ जाती है और बोलने में दिक्कत यहां तक की उलटीयां और पीलीया भी हो जाता है.

3. लिली

 लिली की सभी प्रजातियां विषैली नहीं होती परंतु लिली के कुछ किस्में बहुत विषैली होती हैं. विषैली लिली कईं प्रकार की होती हैं.

  • कल्ला लिली

  • ईस्टर लिली

  • रबरम लिली

  • टाइगर लिली

  • डे लिली

  • एशियन लिली

 इन विषैली किस्मों के पौधों के संपर्क में आने से सरदर्द, उलटी, अंधापन और त्वचा के कईं प्रकार के रोग हो जाते हैं.

4. ऐरोहेड प्लांट

यह पौधा अक्सर घरों में पाये जाने वाले पौधों में से एक है. इस पौधे की खूबी यह है कि इसके पत्ते दिल के आकार के होते हैं और इसे भी वायु शुद्धिकरण के लिए मुख्य तौर पर घरों में रखा जाता है परंतु यदि इसका सेवन हो गया तो इसके कारण चर्म रोग, उलटी और उदर असंतुलित हो सकता है.

5. पोथोस

इस पौधे को घरों में सिर्फ वायु के शुद्धिकरण के लिए रखा जाता है परंतु हैरान करने वाली बात यह है कि यह जितना वायु की शुद्धि करता है उतना ही यह वायु विषैला पौधा है. घरों में पाले गए जानवर अक्सर इस छूते और सूंघते हैं. इसके सेवन से जीवा रोग, मुंह से बदबू, स्वास लेने में दिक्कत और यहां तक की मृत्यु तक हो जाती हैं।

6. फिलोडेनड्रोन

यह पौधा भी पोथोस की ही एक किस्म है और यह उससे भी अधिक विषैला है. इसके संपर्क में आने से उदर विषयक रोग उत्पन्न हो जाते हैं और यह सबसे अधिक नुकसान पेट और इससे संबंधी भागों पर ही करता है.

7. इंग्लिश ईवी

 इस पौधे से कईं प्रकार के त्वचा रोग, गले व स्वास रोग और खुजली हो सकती है.

8. ओलिएंडर

जैसा खूबसूरत नाम है वैसा ही यह खूबसूरत पौधा है और इस पौधे में जब फूल लगते हैं तो वह फूल भी बहुत विशेष और सुंदर होते हैं. इसको विशेषकर घर की सुंदरता बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है परंतु इस पौधे के स्पर्श से त्वचा मुरझाने लगती है.

9. सागो पाम

सागो पाम एकमात्र ऐसा पौधा है जो आपको बड़ी आसानी से देखने को मिल जाएगा. यह हर घर की, होटल की, दफ़तर की शोभा बढ़ाता है. परंतु इस पौधा इतना विषैला है कि इस पौधे के बीज से लेकर जड़ तक विष ही विष भरा हुआ है. इसके संपर्क में रहने से अपाचन, उलटी और उदर रोग हो सकते हैं.

10. ज़ैड प्लांट

यह संपूर्ण पौधा ही विषैला है. इसके हर भाग में जह़र भरा हुआ है और इसे छूने या इसके संपर्क में आने के बाद हाथों को अच्छी तरह धो लेना चाहिए और इसे बहुत संभल कर छुना या स्पर्श करना चाहिए.

English Summary: Ten Toxic Houseplants to Avoid

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News