Lifestyle

जानिए शरीर के किस भाग में तिल होने का क्या मतलब होता है?

हम सभी के शरीर पर कोई न कोई दाग या धब्बे का निशान होता है. जिसे हम तिल  या  मस्सा कहते है. भारतीय ज्योतिष शास्त्रों की शाखा समुद्र विज्ञान में मानव शरीर पर पाए जाने वाले इन्हीं चिन्हों के आधार पर व्यक्ति के भविष्य का काफी हद तक विश्लेषण किया जाता है. ये चिन्ह भविष्य के कई राज खोलते है. ऐसे में आइए आज मैं बताती हूं कि आपके शरीर के किस भाग में तिल होने का क्या है मतलब...

कंधे पर तिल होना

जिन जातकों के कंधे पर तिल होता है वो काफी समझदार और व्यावहारिक किस्म के होते है. ऐसे लोग दोस्त बहुत जल्दी बना लेते है. वे कभी भी अपनी जिम्मेदारियों से दूर नहीं भागते.

दाई गाल पर तिल होना

जिन जातकों के दाई गाल पर तिल होता है. वे काफी खूबसूरत और साफ़ दिल के व्यक्ति होते है. ये बहुत जल्दी भावुक हो जाते है. कभी - कभी लोग इनकी मासूमियत का फायदा भी उठा लेते है. 

ललाट पर तिल होना

जिन जातकों के ललाट के दाई तरफ तिल होता है वे व्यक्ति किसी विषय में विशेष रूप से निपुण होते और जिनके बाई तरफ तिल होता है वे जातक बहुत फिजूलखर्ची करने वाले होते है.

होंठ पर तिल होना

जिन जातको के होठों पर तिल होता है वे बहुत ही उदारवादी प्रवृत्ति के होते हैं और जिनके होंठ के नीचे तिल होता है वे जातक आर्थिक समस्या से पीड़ित रहते है. 

बाई भुजा पर तिल होना

जिन जातकों के बाई भुजा पर तिल होता है वे काफी ज्यादा बोलने वाले और बिना झिझके अपनी बात सबके सामने रखने वाले होते है. ऐसे व्यक्ति जिंदगी में जरूर सफल होते है.

ठोड़ी पर तिल होना

जिन जातकों के ठोड़ी पर तिल होता है वे ज्यादा लोगों से मिलना पसंद नहीं करते वे ज्यादातर खुद में ही उलझे रहते है.  ऐसे लोग जिंदगी से खुश नहीं हो पाते. 



Share your comments