Lifestyle

मानसून में हो रही है लोगों को ये गंभीर बीमारियां, ऐसे बचे

आखिरकार मानसून आ गया अब लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत तो मिली पर इस मानसून की बारिश की वजह से कई तरह की बीमारियां सक्रिय हो गई है. ऐसी कई बीमारियाँ हैं जो इस मौसम में हमारा इंतजार कर रही हैं. उनमें से कुछ आसानी से सावधानियों और जागरूकता के साथ रोकी भी जा सकती हैं. जबकि कई ऐसी बीमारियां है जिनके लिए हमें डॉक्टर के पास तक जाना पड़ सकता है. तो आज हम  आपको अपने इस लेख में मानसून में होने वाली कुछ बीमारियों के बारे में बताएंगे जिनका आप सही समय पर घरेलू इलाज कर ठीक हो सकेंगे....

सर्दी और फ्लू (Cold and Flu)

यह वायरल संक्रमण का सबसे आम रूप है. बुखार, सर्दी और खांसी इसके कुछ सामान्य लक्षण हैं. बारिश के मौसम का उतार-चढ़ाव वाला तापमान आपके शरीर को बैक्टीरिया और वायरस से ग्रस्त बनाता है. जिस वजह से आप इस बीमारी के शिकार होने लगते है. इसलिए जितना हो सके संतुलित भोजन का सेवन करे

मलेरिया(Malaria) 

मानसून और मलेरिया एक दूसरे से काफी जुड़े हुए हैं. जब भी बारिश होती है, तो पानी भरा रहता है, यह मच्छरों की प्रजनन प्रक्रिया में मदद करता है. जिससे ये मच्छर फिर ज्यादा से ज्यादा लोगों को अपना शिकार बनाते है. इसलिए जितना हो सके घर या फिर दुकानों में पानी इकठ्ठा न होने दे.

मौसमी बुखार(Viral fever)

वायरल बुखार एक आम बीमारी है जो पूरे वर्ष में कभी भी हो सकती है. लेकिन मॉनसून के दौरान सबसे अधिक होती है. इसके कुछ सामान्य लक्षण गंभीर बुखार, सर्दी और खांसी हैं. यह 3 से 7 दिनों तक रहता है. इसलिए जितना हो सके इस मौसम में बाहर का खाना या फिर ठंडी चीजों का सेवन न करे.

डेंगू (Dengue)

यह मौसम की सबसे आम और खतरनाक बीमारी है. जिसका अगर ठीक से इलाज न किया जाए तो यह बिमारी बहुत ज्यादा खतरनाक हो सकती है. यह मच्छर के काटने से होने वाली बीमारी है. डेंगू के लक्षण उच्च बुखार, कम रक्त प्लेटलेट काउंट, चकत्ते आदि हैं. इस बीमारी से रक्त प्लेटलेट की गिनती में भारी कमी आती है. जिससे रोगी की मृत्यु हो सकती है. जितना हो सके पपीते के जूस का सेवन करे. क्योंकि ये डेंगू के खतरे को कम करने में काफी लाभदायक नुस्खा है.

हेपेटाइटिस -(Hepatitis -A)

इस बिमारी का मुख्य कारण दूषित खाद्य पदार्थ और पानी है. जो मुख्य रूप से शरीर को प्रभावित करता है. हेपेटाइटिस के कुछ सामान्य लक्षण हैं जैसे तेज बुखार, उल्टी, शरीर पर दाने आदि होने शुरू हो जाते है. इस बीमारी से बचने के लिए जितना हो सके साफ पानी और भोजन करे.



Share your comments