1. लाइफ स्टाइल

ऑफिस की कुर्सी पर बैठने से हो गया कमर या पीठ दर्द, तो अपनाएं ये घरेलू टिप्स

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
back pain

आजकल लोग अपनी भागदौड़ वाली जिंदगी में 10 से 12 घंटे का समय ऑफिस में निकल देते हैं. ऑफिस में लंबे समय तक कुर्सी पर बैठे रहने से कमर और पीठ में तेज दर्द होने लगता है. कभी-कभी तो यह दर्द इतना परेशान कर देता है कि इस असर आपके रोजाना के काम को बिगड़ देता है. इस बैक पेन की वजह से आप ठीक से चल नहीं पाते हैं, तो वहीं आपको चिड़चिड़ापन और गुस्सा आने लगता है. इस दर्द में लोग बाम और पेन किलर्स खाने लगते हैं, लेकिन आप इसका इलाज घर में भी कर सकते हैं.

तेल से मसाज करें

अगर पीठ या फिर कमर में ज्यादा लंबे समय से दर्द हो रहा है, तो आपनी बॉडी की मसाज करवा लेनी चाहिए. इसके लिए आप गुनगुने तेल का उपयोग कर सकते हैं. इससे आपको मिनटों में पीठ औऱ कमर दर्द से राहत मिल जाएगी.

सिकाई

अगर पीठ या कमर में बहुत ज्यादा ही दर्द हो रहा है और मसाज के लिए वक्त नहीं है, तो आप सिकाई भी कर सकते हैं. इसके लिए आप रोजाना नहाने से पहले हल्के गुनगुने पानी से पीठ की सिकाई करें. बता दें कि गर्म पानी से रक्त कोशिकाएं खुल जाती है, तो वहीं शरीर की सूजन भी कम हो जाती है.

लहसुन करेगा मदद

लहसुन का सेवन बहुत फायदेमंद होता है. इससे जितना खाने का स्वाद बढ़ता है, उतना ही यह पीठ और कमर दर्द से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित है. इसकी 10-12 कलियों का एक बारीक पेस्ट बनाकर दर्द वारी जगह पर लगाएं. इसके बाद गर्म पानी में एक कपड़ें को डूबाकर और निचोड़कर पेस्ट लगाने वाली जगह पर रख दें. इसके आधे घंटे बाद ही पेस्ट को साफ कर दें. इससे चुटकियों में आपका दर्द एकदम गायब हो जाएगा.

Benefits of garlic

एक्सरसाइज करें

वैसे इस दर्द को खत्म करने का सबसे स्टीक इलाज एक्सरसाइज है. अगर आप रोजाना सिर्फ 10-15 मिनट एक्सरसाइज कर लें, तो आपकी हड्डियां एकदम मजबूत बनी रहेंगी.

ध्यान दें: जो लोग कमर और पीठ के दर्द से ज्यादा परेशान हैं. वह इन घरेलू इलाजों को अपनाने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरुर लें.

ये खबर भी पढ़ें: पुरुष स्वस्थ रहने के लिए अपनाएं ये खास टिप्सो, दिखेंगे एकदम फिट

English Summary: follow home remedies for back pain

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News