1. लाइफ स्टाइल

दिवाली की पूजा में मां लक्ष्मी को चढ़ाएं 5 प्रकार के प्रसाद, हो जाएंगी प्रसन्न

दिवाली की पूजा के दौरान प्रसाद की महत्वपूर्ण भूमिका होती है. कहा जाता है कि दिवाली की पूजा के दौरान मां लक्ष्मी घर आती हैं, इसलिए घर के दरवाजे पर रंग से देवी के पैरों की छाप और शुभ चिन्ह बनाए जाते हैं. इसके अलावा पूजा के प्रसाद को प्राथमिकता दी जाती है

कंचन मौर्य
maa laxmi
Diwali

दिवाली की पूजा के दौरान प्रसाद की महत्वपूर्ण भूमिका होती है. कहा जाता है कि दिवाली की पूजा के दौरान मां लक्ष्मी घर आती हैं, इसलिए घर के दरवाजे पर रंग से देवी के पैरों की छाप और शुभ चिन्ह बनाए जाते हैं. 

इसके अलावा पूजा के प्रसाद को प्राथमिकता दी जाती है, जो मां विष्णुप्रिया को अतिप्रिय हो. वैसे तो ईश्वर भाव का भूखा होता है, उन्हें सच्चे मन से जो भी भोग लगा दो, वह पर्याप्त होता है. मगर भक्त मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए हरसंभव प्रयास करते हैं. ऐसे में आप मां लक्ष्मी को 5 प्रकार के भोग लगाकर प्रसन्न कर सकते हैं.

मखाना (Makhana) 

मां लक्ष्मी को मखाना बहुत पसंद होते हैं, क्योंकि यह कमल के फूल के बीज से बनता है. इसे फूल मखाना भी कहा जाता है. इसे मां लक्ष्मी के भोग में ज़रूर चढ़ाना चाहिए. आप मखाने की खीर बनाकर या उसे घी में हल्का सेंककर भी भोग लगा सकते हैं.

बताशे (Batashey)

मां लक्ष्मी को चंद्रमा की बहन कहा जाता है और बताशे का संबंध चंद्रमा से होता है, इसलिए मां लक्ष्मी को बताशे बहुत पसंद हैं. आप बताशे और चीनी के खिलौने मां को प्रसाद के रुप में चढ़ाएं, साथ ही खीर और मिठाई के रुप में अन्य सफेद प्रसाद भी चढ़ाएं.

पान (Pan)

दिवाली की पूजा के दौरान आरती से पहले ही सभी भोग मां को चढ़ा दिए जाते हैं, लेकिन पान ही एकमात्र ऐसा भोग होता है, जो सबसे आखरी में लगता है. आप मां लक्ष्मी को मीठा पान चढ़ा सकते हैं, लेकिन अगर मीठा पान उपलब्ध न हो, तो आप पान के सादे पत्ते को भी अर्पित कर सकते हैं.

यह खबर भी पढ़ें : जानिए छोटी दिवाली का महत्व

सिंघाड़ा (Singhada) 

मां लक्ष्मी को सभी फल-फूल बहुत रास आते हैं, जो जल में फलते-फूलते हैं. ऐसे में आप कमल, मखाना, कमल ककड़ी और सिंघाड़े का भोग लगा सकते हैं. आप हरे और काले रंग के सिघाड़े माता को प्रसाद के रुप में चढ़ा सकते हैं. दिवाली पर इनका विशेष महत्व होता है.

English Summary: Diwali 2020: Make 5 types of Prasad for Maa Lakshmi Published on: 04 November 2020, 05:52 IST

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News