Lifestyle

शारीरिक क्षमता को मजबूत करें मुरब्बा, जानिए क्या है फायदे

अच्छे स्वास्थ के लिए फल सब्जियों को हम जहां अपने रोज के आहार में शामिल करते है, वही पर खाद्य संरक्षण या फूड प्रिजर्वेशन के कई तरीकों से इनको संरक्षित कर सकते है. फल सब्जियों से बने मुरब्बे इनमें से एक है, जिन्हें हम अक्सर मिठाई के तौर पर खाते है. इनमें से अनेक मुरब्बे गर्मियों की मार से बचाने में काफी मददगार साबित हो सकता है. मुरब्बे हमारे स्वास्थय के लिए ही फायदेमंद नहीं बल्कि खूबसूरती को बढ़ाने में भी सहायक होता है. यह हमारे शरीर को एनर्जी देने के साथ ही इम्युन बूस्टर का भी काम करते है. आयुर्वेद और यूनानी चिकित्सा में तो इन्हें दवा की तरह इस्तेमाल किया जाता है. ठंडी तासीर लिए इन मुरब्बों का इस्तेमाल गर्मी के मौसम में कई बीमारियों को दूर रखने में सहायक है.

आवंले का मुरब्बा

गोलाकार, पीले और हरे नींबू के आकार वाला आंवला विटामिन विटामिन सी, अमीनो एसिड और तांबा, जस्ता ढेर सारे मिनरल्स का भंडार है. इसके नियमित सेवन से हमारे पाचन तंत्र और इम्युन सिस्टम को मजबूत करते है. आंवले के मुरब्बे में मौजूद विटामिन सी शरीर में कैल्शियम, और आयरन के अवशोषणा को बढ़ावा देता है. इससे कफ और पित्त संबंधी समस्याओं से आराम मिलता है. हमारे शरीर में बढ़ती उम्र के साथ पड़ने वाली झुर्रियों, नजर कमजोर होने जैसे प्रभावों को यह कम करता है.

गाजर का मुरब्बा

गाजर का मुरब्बा एंटी ऑक्साइड जैसे तत्वों से भरपूर होता है. यह ब्लड प्रेशर और हार्ट संबंधी समस्याओं को कम रखता है. यह लंबी बीमारी के बाद शरीर को तंदरूस्त रखने में सहायक होता है. यह शरीर में आयरन की कमी को पूरा कर देता है. शीतल प्रभाव के कारण गाजर का मुरब्बा पेट की जलन, दर्द और भूख न लगने जैसी समस्याओं से छुटकारा दिलवाता है.

केरी का मुरब्बा

आम का मुरब्बा शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता के विकास में सहायक होते है. यह अम्लता और पाचन प्रणाली में गड़बड़ी के इलाज में मदद करता है. बैक्टीरियल संक्रमण, कब्ज, दस्त, पेचिश की स्थिति में इस मुरब्बे के सेवन से काफी आराम मिलता है. इस मुरब्बे में आयरन की मात्रा काफी ज्यादा होती है.

हरड़ का मुरब्बा

हरड़ के मुरब्बे को आप नियमित सेवन से चोट और घाव वाली जगह पर आराम से लगा सकते है. यह चोट वाली जगह के सूजन को कम करता है. यह भूख न लगने, पेट में कीड़े होने और पाचन संबंधी समस्याओं से छुटकारा दिलवाता है. जठरोग तंत्र, टयूमर, बावासीर, मूत्राशय की पथरी में हरड़ का मुरब्बा काफी लाभदायक होता है. अगर आप गुड़ के साथ इसका सेवन करे तो आपको फायदा हो सकता है.

बेल का मुरब्बा

बेल के अंदर कई तरह के विटामिन, टेनिन और पेचिश, हैजा, डायरिया जैसी स्थितियों में प्रभावकारी है. विटामिन और खनिज तत्वों से इस मुरब्बे का नियमित सेवन पेट के रोगों के खिलाफ लड़ने में सहायक होता है.

सम्बन्धित खबर पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें !

सर्दियों में आंवला खाने से ढेरों फायदे



Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in