1. लाइफ स्टाइल

गोबर की राख से बनने वाले ये उत्पाद, सर्दियों में बीमारी के हैं रामबाण इलाज

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा
cow dung

गोबर का नाम सुनकर ही ज्यादातर लोग नाक सिकोड़ते हैं लेकिन आपको जानकार हैरानी होगी कि प्राचीन काल से ही गाय के गोबर को सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर और पवित्र माना जाता आया है क्योंकि गाय के गोबर में अनेक गुणों का समावेश होता है. लोगों को शायद यह भी नहीं पता होगी कि बेकार दिखने वाली इस चीज की देश-विदेशों में भी मांग है. ऐसे में आइए आज हम आपको अपने इस लेख में गाय के गोबर से बनी राख के अद्भुत गुणों के बारे में बताते हैं-

cow

ज़ुकाम से राहत दिलाने में सहायक

राख का उपयोग प्राचीन काल से ही आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता आया है क्योंकि यह शरीर की अत्यधिक नमी को अवशोषित कर ठंड को रोकने में मदद करती है. इसलिए ज्यादातर साधु अपने माथे और नाक पर राख का इस्तेमाल करते हैं.

खाज-खुजली से राहत

गाय के गोबर को अच्छे से सुखाकर उसे जलाएं उसके बाद उसकी राख बना लें. फिर मक्खन में 25 ग्राम राख को मिलाकर रख लें और जब भी आपको खाज-खुजली महसूस हो तो इस लेप को तुरंत लगा लें. ऐसा करने से आपको बहुत जल्दी राहत मिलेगी.

मिर्गी की समस्या से राहत

अगर आपको मिर्गी की समस्या है तो आप सूखे गोबर की राख को पानी में मिलाकर अच्छे से छान ले. इसका हफ्ते में 2 से 3 बार सेवन करने से आपको मिर्गी की बीमारी से काफी हद तक राहत मिलेगी.

पेट के कीड़े से छुटकारा

आजकल ज्यादातर लोग पेट में कीड़े की समस्या से ग्रस्त हैं. जिसके चलते उन्हें कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, जैसे ज्यादा भूख लगना, आलस आना, पेट में दर्द होना, शरीर में खून की कमी होना आदि. तो ऐसे में आप गाय के गोबर की राख को 1 गिलास पानी में 1 चम्मच मिला कर और छानकर 3 से 4 दिन तक सुबह शाम लगातार पिएं, आप कुछ दिनों में ही उक्त समस्या से निजात पा लेंगे.

English Summary: Benefits of cow dung :These products made from cow dung ash are a panacea for winter health.

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News