Medicinal Crops

जानें! क्यों है आर्टिमिसिया की खेती किसानों के लिए वरदान, पढ़ें इस खेती की पूरी विधि

Medicinal plant cultivation

वर्तमान समय में बढ़ती महंगाई ने किसानों की कमर तोड़ दी है. परम्परागत खेती करने वाले किसानों को ज्यादा लागत और कम मुनाफा होने की वजह से काफी नुकसान हो रहा है. ऐसे में किसानों के लिए आर्टीमीसिया जैसी औषधीय फसलों की खेती करना काफी ज्यादा फायदेमंद साबित हो सकता है. आज हम अपने इस लेख में आपको आर्टीमीसिया की खेती के बारे में जानकारी देंगे.

बुवाई का समय

आर्टीमीशिया फसल की बुवाई का समय मार्च से जून के बीच का होता है.

खाद व उर्वरक 

आर्टीमीशिया की खेती में एक और जो सबसे अच्छी बात है वो ये की ये बिना खाद और उर्वरक की जाने वाली खेती है.

सिंचाई

इसकी गर्मी के मौसम में 10 से 15 दिनों में एक बार सिंचाई करनी चाहिए. बस ध्यान रहे कि ज्यादा पानी न भर पाए. और ज्यादा जलभराव वाली जगह में जितना हो सके, आर्टिमिसिया की खेती न ही करें. 

ये खबर भी पढ़े: Tulsi Cultivation: इस विधि से करें तुलसी की खेती, होगी अच्छी आमदनी !

Rupee

आर्टिमिसिया से होने वाला मुनाफा

आप आसानी से 1 एकड़ में 35 कुंतल पत्तियों का उत्पादन कर सकते हैं, जिसकी कीमत 1 लाख 15 हज़ार तक होती है, 4 माह में 1 एकड़ में 25 से 30 हज़ार तक खर्च आता है और 70 से 80 हज़ार तक फायदा होता है.

कंपनी खरीदती है फसल

इसकी खेती के लिए सबसे पहले किसानों को सीमैप में पंजीकरण करवाना होता है.

उसके बाद फार्मा कंपनी (Pharma Company) से अनुबंध के जरिये कंपनी ही किसानों से इसकी खेती करवाती है. कंपनी ही उन्हें बीज प्रदान करती है और जब फसल पूरी तरह तैयार हो जाती है तो कंपनी ही आर्टिमिसिया की सुखी पत्तियों को किसानों से खरीदती है. जिस से किसान और कंपनी दोनों को ही फायदा होता है.

अधिक जानकारी के लिए https://www.cimap.res.in/hindi/ पर विजिट करें.



English Summary: Medicinal Plant Cultivation: Why cultivating Artemisia is a boon for farmers, read this complete method of farming

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in