1. सरकारी योजनाएं

खुशखबरी! योगी आदित्यनाथ ने 20 लाख से ज्यादा दिहाड़ी मजदूरों को भेजी 1000 रुपए की पहली किस्त

सुधा पाल
सुधा पाल

दुनिया के साथ भारत में भी कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हाल ही में दिहाड़ी मजदूरों को बड़ी राहत दी है. यूपी सीएम ने मंगलवार को राज्य के 20 लाख से भी ज़्यादा दिहाड़ी मजदूरों को एक हजार रुपए की पहली किस्त उपलब्ध करा दी है. आपको बता दें कि मजदूरों को यह किस्त डीबीटी (DBT) के जरिए उपलब्ध कराई गई है. DBT से मजदूरों तक यह राशि उनके खाते में पहुंचेगी.

श्रमिक भरण-पोषण योजना के तहत भेजी गई राशि

हाल ही में श्रमिक भरण-पोषण योजना की शुरुआत की गई है. जहां इस समय वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ सभी जंग लड़ रहे हैं, वहीं सभी का ख्याल रखते हुए प्रदेश सरकार ने श्रमिकों के लिए भरण-पोषण की व्यवस्था उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी ली है और इसी कड़ी में इस योजना को पेश किया. आपको बता दें कि मुख्यमंत्री योगी सरकार रेहड़ी, ई-रिक्शा चालक, ठेला, खोमचा, रिक्शा और पल्लेदारों जैसे दिहाड़ी मजदूरों को हजार रुपए की यह राशि भरण-पोषण भत्ता के रूप में दे रही है. इस काम के लिए नगर विकास विभाग को अधिकृत भी किया गया है. Yogi Adityanath ने अपने सरकारी आवास से इस योजना को शुरू किया है.

हाल ही में नरेंद्र मोदी द्वारा की गई दुबारा लॉकडाउन (lockdown) की अपील के बाद सीएम योगी ने भी एक ख़ास घोषणा की है. जहां पीएम मोदी (PM NARENDRA MODI) ने 21 दिनों के लॉकडाउन की बात कही है, मुख्यमंत्री योगी (Uttar Pradesh CM) ने लोगों को आश्वासन दिया है कि उन्हें इस दौरान किसी भी चीज़ की कोई दिक्कत नहीं होगी. यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने लोगों को दूध या सब्जी की किल्लत या कोई सम्बंधित समस्या न हो, इसके लिए लोगों को राशन, दूध और सब्जियां घर-घर पहुंचाने की बात कही है. प्रदेश सरकार की योजना है कि लगभग 10 हजार वाहनों के जरिए लोगों तक ये सेवा पहुुंचाई जाएगी.

ये भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश सरकार ने NDRF से मांगे 358 करोड़ रुपए, ओलावृष्टि प्रभावित किसानों की होगी मदद

English Summary: yogi adityanath provided first installment of shramik bharan poshan yojana to labourers

Like this article?

Hey! I am सुधा पाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News