आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे

Godhan Nyay Yojana: ‘गोधन न्याय योजना’ के तहत राज्य सरकार खरीदेगी गाय के गोबर, मिलेगा गौ-पालन को बढ़ावा

cow ka gobar

केंद्र सरकार के अलावा राज्य सरकारें भी गाय पालन को बढ़ावा देने के लिए कई खास योजनाएं चल रही हैं, जिससे किसानों और पशुपालकों की आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाया जा सके. इसके अलावा सड़कों और शहरों में आवारा घूमते पशुओं पर भी रोक लगाई जा सके और पर्यावरण को सुरक्षित रखने में मदद मिल पाए. इसी क्रम में छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार ने पहल कर गोधन न्याय योजना की शुरुआत की है. जिसमें किसानों और पशुपालकों से गोबर को निर्धारित दर पर खरीदा जाएगा. इस योजना द्वारा गांवों के लोगों को रोजगार के नए अवसर भी मिलेंगे. इस पर राज्य सरकार का कहना है कि ये गोबर खरीदने वाली दुनिया की पहली योजना है.

इस योजना द्वारा सरकार पशुपालकों से 2 रुपए प्रति किलो के हिसाब से गोबर खरीदेगी. इसके अलावा अगर गौ-पालक सेंटर में जाकर गोबर नहीं बेचता है तो वह घर से भी गोबर बेच सकता है. ऐसे में उसे  किराये का खर्च काटकर भुगतान किया जाएगा. सरकार पशुपालकों से खरीदे गए गोबर का वर्मीकम्पोस्ट खाद बना कर उनको सस्ते दामों पर बेचेगी जिससे उनकी खेती बेहतर होगी और यूरिया का भी उपयोग कम होगा.

farm house

गाय के गोबर को पशुपालकों से 2 रुपये प्रति किलो की दर से खरीदेगी सरकार

महासमुंद जिले के ग्राम कछारडीह गौठान में इस योजना का शुभारंभ करते हुए वाणिज्यकर (आबकारी) एवं उद्योग तथा जिला प्रभारी मंत्री कवासी लखमा ने कहा कि ‘गोधन न्याय योजना’ के अंतर्गत राज्य सरकार गाय के गोबर को पशुपालक से 2 रुपये प्रति किलो की दर से खरीदेगी और पशुपालकों से खरीदे गए गोबर से वर्मी कम्पोस्ट खाद (Vermicompost Manure) बनाकर इच्छुक किसानों को 8 रुपए प्रति किलो की दर से बेचा जाएगा, जिससे किसान आर्थिक रूप से मजबूत होंगे और साथ ही जैविक खेती को भी बढ़ावा मिलेगा. इस योजना द्वारा सरकार को गोबर बेचकर किसानों और पशुपालकों की आय में बढ़ोतरी तो होगी इसके साथ ही उन्हें खेती के लिए अच्छे और सस्ते दामों पर बेहतर खाद भी मिलेगा.

ये खबर भी पढ़ें: Cow Dung Business Ideas: महज 10 हजार की लागत में गाय के गोबर से बनी इन 3 चीजों का व्यवसाय करेगा आपको मालामाल !

cow

‘गोधन न्याय योजना’से फायदा

  • गोबर खरीदने से पशुधन के सरंक्षण एवं संवर्धन को आगे बढ़ने का मौका मिलेगा.

  • इससे गौ-पालन को बढ़ावा मिलेगा.

  • पशुओं की सुरक्षा होगी.

  • किसानों व पशुपालकों को आर्थिक रूप से फायदा होगा.

  • ग्रामीण अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी.

  • बड़ी मात्रा में वर्मी कम्पोस्ट का निर्माण भी महिला स्व-सहायता समूहों के द्वारा शुरू किया गया है.

  • राज्य के लगभग 2200 गांवों में गौठानों का निर्माण हो गया है.

  • इसके अलावा 2800 गांवों में गौठानों का निर्माण किया जा रहा है

English Summary: Under 'Godan Nyaya Yojana', the state government will buy cow dung, will encourage cow rearing

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News