PMMVY: मोदी सरकार की इस योजना से महिलाओं को मिलेंगे 6000 रुपए, जानें कैसे मिलेगा योजना का लाभ

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा
modi

सरकार ने महिलाओं को राहत देने के लिए कई योजनाएं चलाई है ऐसी ही एक योजना थी जो 2010 में इंदिरा गांधी मातृ सहयोग योजना के रूप में शुरू हुई थी. फिर वर्ष 2014 में BJP सरकार ने इसका नाम बदलकर मातृ सहज योजना रख दिया और फिर  1 जनवरी, 2017 में इसे पीएम मातृ वंदना योजना के नाम से पूरे भारत में लागू किया गया.

क्यों शुरू की गई ये योजना

हमारे देश में हर साल गर्भावस्था के समय होने वाली परेशानियों व बीमारियों की वजह से लगभग 56 हजार महिलाओं की मौत हो जाती है. इसी समस्या को देखते हुए सरकार ने इसमें सुधार लाने के लिए इस योजना की शुरुआत की. इस योजना के तहत  प्रेग्नेंट महिला (Pregnant Women) की डिलीवरी होने पर सरकार सीधे उनके बैंक अकाउंट में 6 हजार रुपए देती है.

ये खबर भी पढ़े: Jan Dhan Yojana : इस योजना के तहत प्राइवेट बैंक में भी खुलवा सकेंगे अब अकाउंट, मिलने लगेगा सरकारी योजनाओं का लाभ !

farmer

क्या है इस योजना का मुख्य उद्देश्य

इस योजना को देश के कई प्रदेशों में भी लागू किया गया है. इस योजना में सहायता की ये राशि  जच्चा-बच्चा (माँ और बच्चा)  को पर्याप्त पोषण उपलब्ध कराने के हिसाब से प्रदान की जाती है. इस योजना का मुख्य उद्देश्य महिलाओं को आर्थिक रूप से मजबूत करना है ताकि वह खुद के साथ-साथ अपने नवजात बच्चे की भी देखरेख कर सकें. मौजूदा वक्त में जननी सुरक्षा योजना (Jannani Suraksha Yojana) से हर साल 1 करोड़ से ज्यादा महिलाओं को आर्थिक सहायता मिल रही है. सरकार सालाना JSY इस पर  1600 करोड़ रुपए खर्च कर रही है.

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

एक लाभार्थी योजना के लिए अपने अंतिम मासिक धर्म (LMP) की तारीख से 730 दिनों के भीतर आवेदन कर सकती है. MCP कार्ड में रजिस्टर्ड LMP को योजना के तहत गर्भावस्था की तारीख के रूप में माना जाएगा. PMMVY के तहत ऑनलाइन आवेदन के लिए  https://pmmvy-cas.nic.in   पर जाएं और आवेदन करें

English Summary: PMMVY: Women will get 6000 rupees from this scheme of Modi government, know how to get benefit of the scheme

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News