खोले जन औषधि केंद्र सरकार दे रही है 2,50,000 रूपये, कमाए ढेरों मुनाफा

अगर आप भी स्वयं के रोजगार से किसी  को रोजगार देना चाहते है तो आपके लिए  सुनहरा अकव्सर है. दरअसल मोदी सरकार एक योजना लेकर आयी है. इस योजना का नाम प्रधानमंत्री जन औषधि योजना (PMJAY) है. मोदी सरकार  की इस योजना के माध्यम से आप भी मेडिकल की दुकान खोल सकते है. इस योजना की सबसे की खास बात ये है कि सरकार मेडिकल की दुकान खोलने के लिए 2.5 लाख रुपये तक की सब्सिडी भी दे रही है. इतना ही नहीं आप दवा की प्रिंट कीमत पर 20 प्रतिशत से ज्यादा का मुनाफा ले सकते है. आपकी जानकारी के लिए बता दे की देश के 700 जिलों में 6200 जन औषधि केंद्र खुल चुके है. जन औषधि केंद्र खोलने का सरकार का केवल एक ही उद्देश्य है, वो है रियायती दरों पर गरीब और वंचित लोगों को बेहतर दवाएं पहुंचना.

कौन खोल सकता है जन औषधि केंद्र

जन औषधि केंद्र खोलने के लिए कोई भी व्यक्ति या कारोबारी, अस्पताल, गैर सरकारी संगठन, फार्मासिस्ट, डॉक्टर, और मेडिकल प्रैक्टिशनर आदि आवेदन कर सकते है. आपको बता दें कि अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और दिव्यांग आवेदकों को औषधि केंद्र खोलने के लिए 50,000 पहले दिए जाते है.

जन औषिध केंद्र से फायदा

इस योजना के तहत केंद्र सरकार जेनरिक दवाओं पर छूट देती है. इसके अलावा दवा के प्रिंट कीमत पर भी 20 प्रतिशत का मुनाफा दिया जाता है. इतना ही नहीं सरकार औषिध केंद्र खोलने के लिए 2 लाख रूपये तक की एकमुश्त वित्तीय सहायता प्रदान करती है. यदि आप लगातार एक साल तक दवाये बेचते है तो सरकार आपको 10 प्रतिशत इंसेटिव भी देगी. हालांकि, ये राशि 10,000 रूपये से अधिक नहीं होगी. उत्तर-पूर्वी राज्य, नक्सल प्रभावित इलाके, आदिवासी क्षेत्रों में 15 फीसदी इंसेंटिव या अधिकतम 15 हजार रुपये की गई है.

PMJAY का फॉर्म इस लिंक https://www.pmjay.gov.in/ पर जाकर डाउनलोड कर सकते है. 7 मार्च को प्रधानमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए देश के जन औषधि केन्‍द्रों के संचालकों व लाभार्थियों से बात की थी.

English Summary: Open Jan Aushadhi Central Government is giving Rs. 2.5 lac earned a lot of profits

Like this article?

Hey! I am प्रभाकर मिश्र. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News