MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सरकारी योजनाएं

MANREGA: भारत के बदलते ग्रामीण परिदृश्य की संभावनाओं में अग्रणी रही है यह योजना

मनरेगा भारत में एक ऐसी योजना है जो गरीब ग्रामीणों के लिए संकट के समय में एक वरदान की तरह साबित होती है. इस योजना के माध्यम से किसानों को उनके ही क्षेत्र के पास रोजगार उपलब्ध कराया जाता है. तो आइये जानते हैं कि क्या है मनरेगा का इतिहास और वर्तमान परिदृश्य.

प्रबोध अवस्थी
प्रबोध अवस्थी
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) भारत में एक ऐतिहासिक कानून है जिसका उद्देश्य ग्रामीण परिवारों को आजीविका सुरक्षा और रोजगार के अवसर प्रदान करना है. मनरेगा का इतिहास भारत के निरंतर ग्रामीण संकट, गरीबी और समावेशी विकास की आवश्यकता पर आधारित है. अपनी स्थापना से लेकर आज तक, मनरेगा का पूरा इतिहास इस प्रकार है:

पृष्ठभूमि और पायलट (2005-2006)

20वीं सदी के अंत में भारत को गरीबी, बेरोजगारी और ग्रामीण संकट से संबंधित महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना करना पड़ा. ग्रामीण आबादी, विशेष रूप से गरीबी में रहने वाले लोगों के पास नियमित रोजगार के अवसरों तक पहुंच का अभाव था और वे मौसमी बेरोजगारी से पीड़ित थे. इन मुद्दों के जवाब में, भारत सरकार ने देश के 200 सबसे पिछड़े जिलों में पायलट आधार पर राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (एनआरईजीएस) शुरू की.

मनरेगा का अधिनियमन (2005-2006)

एनआरईजीएस पायलटों की सफलता और सकारात्मक प्रभाव के कारण 7 सितंबर, 2005 को अधिसूचना महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा), 2005 की धारा 6 (1) के तहत जारी की गई थी, जिसमें कहा गया है कि केंद्र, अधिसूचना द्वारा, अपने लाभार्थियों के लिए मजदूरी दर निर्दिष्ट कर सकता है. इस अधिनियम का नाम भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के प्रतिष्ठित नेता महात्मा गांधी के नाम पर रखा गया था, जिन्होंने ग्रामीण विकास और सामाजिक विकास की वकालत की थी. इस कानून का उद्देश्य अकुशल शारीरिक कार्य करने के इच्छुक प्रत्येक ग्रामीण परिवार को एक वित्तीय वर्ष में कम से कम 100 दिनों के रोजगार की कानूनी गारंटी प्रदान करना है.

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

मनरेगा के उद्देश्य

मनरेगा के कई प्रमुख उद्देश्य थे, जिनमें ग्रामीण परिवारों को आजीविका सुरक्षा प्रदान करना, ग्रामीण क्षेत्रों में टिकाऊ संपत्ति और बुनियादी ढांचे का निर्माण करना, स्थानीय स्तर पर रोजगार के अवसर प्रदान करके ग्रामीण-शहरी प्रवास को कम करना, ग्रामीण महिलाओं को सशक्त बनाना और विकेंद्रीकरण और स्थानीय स्वशासन को मजबूत करना शामिल है.

मनरेगा के प्रमुख प्रावधान

मनरेगा के तहत पात्र ग्रामीण परिवार आवेदन करने के 15 दिनों के भीतर रोजगार की मांग कर सकते हैं और सरकार मांग के 15 दिनों के भीतर रोजगार उपलब्ध कराने के लिए बाध्य थी. अधिनियम में राज्य सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम वेतन से कम मजदूरी का भुगतान अनिवार्य नहीं था, और देरी होने पर मुआवजा प्रदान किया जाना था. इसका उद्देश्य कार्यबल में महिलाओं की कम से कम एक तिहाई भागीदारी हासिल करना भी था.

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

कार्यान्वयन और वित्त पोषण तंत्र

मनरेगा को भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा राज्य सरकारों के सहयोग से लागू किया गया था. ग्राम पंचायतों (ग्राम-स्तरीय स्थानीय स्वशासन) ने जमीनी स्तर पर योजना बनाने, लागू करने और निगरानी करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. केंद्र सरकार ने मनरेगा के लिए धन मुहैया कराया और खर्च केंद्र और राज्यों के बीच साझा किया गया. प्रारंभ में, केंद्र सरकार ने मजदूरी लागत का 100% और सामग्री लागत का 75% वहन किया, शेष 25% राज्यों द्वारा वहन किया गया. हालाँकि, बाद में इस अनुपात को बदलकर 60:40 कर दिया गया.

प्रारंभिक वर्ष और प्रभाव (2006-2011)

कार्यान्वयन के प्रारंभिक वर्षों के दौरान, मनरेगा में महत्वपूर्ण चुनौतियाँ और उपलब्धियाँ देखी गईं. इस अधिनियम ने लाखों ग्रामीण परिवारों को रोजगार के अवसर प्रदान किए, जिसके परिणामस्वरूप आय में वृद्धि हुई और गरीबी में कमी आई. इसने सड़कों, जल संरक्षण संरचनाओं और सिंचाई सुविधाओं जैसी सामुदायिक संपत्तियों के निर्माण में भी योगदान दिया. हालाँकि, वेतन भुगतान में देरी, भ्रष्टाचार, अपर्याप्त निगरानी और बनाई गई संपत्ति की गुणवत्ता के बारे में चिंताएँ थीं.

संशोधन और सुधार (2011-2015)

कार्यान्वयन चुनौतियों का समाधान करने की आवश्यकता को पहचानते हुए, सरकार ने मनरेगा को मजबूत करने के लिए कई संशोधन और सुधार पेश किए. 2011 में, सरकार ने जॉब कार्ड धारकों, किए गए कार्य और किए गए भुगतान सहित योजना के बारे में जानकारी प्रचारित करने का प्रावधान शुरू करके पारदर्शिता बढ़ाई. जवाबदेही और नागरिक भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए सामाजिक लेखापरीक्षा भी शुरू की गई थी. इसके अतिरिक्त, सरकार ने इसके प्रभाव को अधिकतम करने के लिए अन्य ग्रामीण विकास योजनाओं के साथ मनरेगा के कार्ययोजना में सुधार पर ध्यान केंद्रित किया.

तकनीकी हस्तक्षेप (2015-2017)

मनरेगा को और अधिक सुव्यवस्थित करने और इसकी दक्षता में सुधार करने के लिए, सरकार ने तकनीकी हस्तक्षेप शुरू किया. राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फंड प्रबंधन प्रणाली (एनईएफएमएस) की शुरूआत का उद्देश्य श्रमिकों को समय पर भुगतान सुनिश्चित करना और देरी को कम करना है. बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण, मोबाइल एप्लिकेशन और संपत्तियों की जियो-टैगिंग के उपयोग से पारदर्शिता और निगरानी बढ़ाने में मदद मिली.

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

प्रत्यक्ष लाभ अंतरण और वित्तीय समावेशन (2017-वर्तमान)

वित्तीय समावेशन को बढ़ाने और रिसाव को कम करने के प्रयास में, सरकार ने मनरेगा में प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) प्रणाली शुरू की. इससे यह सुनिश्चित हुआ कि मजदूरी सीधे श्रमिकों के बैंक खातों में स्थानांतरित की गई, बिचौलियों को खत्म किया गया और भ्रष्टाचार कम हुआ. इसने ग्रामीण परिवारों के बीच अधिक वित्तीय समावेशन की सुविधा भी प्रदान की.

कोविड-19 महामारी और मनरेगा की भूमिका (2020-2021)

2020 में COVID-19 महामारी के प्रकोप के कारण गंभीर आर्थिक संकट और व्यापक बेरोजगारी हुई. मनरेगा ने लॉकडाउन से प्रभावित ग्रामीण आबादी को तत्काल राहत और रोजगार के अवसर प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. केंद्र सरकार ने मनरेगा के लिए आवंटन बढ़ाया और अतिरिक्त कार्य दिवस प्रदान करने के लिए इसके कवरेज का विस्तार किया. महामारी के दौरान कमजोर परिवारों के लिए मनरेगा एक आवश्यक जीवन रेखा बन गई.

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

प्रभाव और चुनौतियाँ

मनरेगा का ग्रामीण रोजगार, गरीबी उन्मूलन और संपत्ति निर्माण पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है. इसने लाखों ग्रामीण परिवारों को आय सहायता प्रदान की है और सामुदायिक संपत्ति बनाने में मदद की है, जिससे ग्रामीण बुनियादी ढांचे और आजीविका में सुधार हुआ है. इस अधिनियम ने महिलाओं को सशक्त बनाया है और स्थानीय स्वशासन को भी मजबूत किया है. हालाँकि, विलंबित वेतन भुगतान, भ्रष्टाचार, अपर्याप्त निगरानी और बेहतर संपत्ति गुणवत्ता की आवश्यकता जैसी चुनौतियाँ अभी भी बनी हुई हैं.

निष्कर्षतः भारत में ग्रामीण बेरोजगारी और गरीबी की चुनौतियों का समाधान करने के लिए महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) समय के साथ विकसित हुआ है. अपने अधिनियमन से लेकर आज तक, मनरेगा ने आजीविका सुरक्षा प्रदान करने, संपत्ति बनाने, ग्रामीण समुदायों को सशक्त बनाने और समावेशी विकास को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण प्रगति की है. चुनौतियों के बावजूद, यह अधिनियम प्रासंगिक बना हुआ है और भारत के लाखों ग्रामीण परिवारों के जीवन को बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

यह भी देखें- पशुओं की देखभाल के लिए मिलेंगे लाखों रुपए, इस योजना में करें आवेदन

मनरेगा के निर्माण के समय से लेकर अभी तक इसमें कई तरह के परिवर्तनों के साथ इसमें एक विकास श्रंखला को जोड़ा गया है. तो आइये जानते हैं कि मनरेगा के बनने से लेकर अभी तक की सबसे प्रमुख कमेटियों के नाम. जिनके चलते मनरेगा में ग्रामीणों के उत्थान के लिए तरह-तरह के प्रस्तावों के माध्यम से एक नए अध्याय को प्रारम्भ किया गया.

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

मनरेगा से संबंधित प्रमुख कमेटियां 

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के कार्यान्वयन और निर्माण पर अध्ययन, मूल्यांकन और सिफारिशें प्रदान करने के लिए वर्षों से विभिन्न समितियों और कार्य बलों का गठन देखा गया है. यहां मनरेगा से संबंधित कुछ उल्लेखनीय समितियां और कार्य बल और उनके संबंधित अध्यक्ष हैं:

राष्ट्रीय सलाहकार परिषद (एनएसी): एनएसी ने मनरेगा के निर्माण और कार्यान्वयन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. हालाँकि यह विशेष रूप से मनरेगा के लिए समर्पित नहीं है, लेकिन इसने मार्गदर्शन और सिफारिशें प्रदान कीं. मनरेगा के शुरुआती वर्षों के दौरान एनएसी की अध्यक्ष सोनिया गांधी थीं.

यह भी देखें- मनरेगा के मजदूरों के लाभ के लिए अब बढ़ाया जायेगा दायरा, कमाई में भी होगी वृद्धि

असंगठित क्षेत्र में उद्यमों के लिए राष्ट्रीय आयोग (एनसीईयूएस): असंगठित क्षेत्र से संबंधित मुद्दों का अध्ययन करने के लिए स्थापित एनसीईयूएस ने मनरेगा पर सिफारिशें कीं. अपने अस्तित्व के दौरान NCEUS के अध्यक्ष अर्जुन सेनगुप्ता थे.

मिहिर शाह समिति: मनरेगा के कार्यान्वयन की समीक्षा करने और सुधारों का सुझाव देने के लिए 2014 में मिहिर शाह समिति का गठन किया गया था. इसकी अध्यक्षता प्रसिद्ध विकास अर्थशास्त्री और भारत के योजना आयोग के पूर्व सदस्य मिहिर शाह ने की.

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

नागेश सिंह समिति: मनरेगा के कामकाज में सुधार के तरीकों का अध्ययन करने और सिफारिश करने के लिए 2015 में नागेश सिंह समिति का गठन किया गया था. समिति की अध्यक्षता ग्रामीण विकास मंत्रालय के पूर्व सचिव नागेश सिंह ने की.

महेंद्र देव समिति: भारत में गरीबी की माप की समीक्षा के लिए 2017 में महेंद्र देव समिति की स्थापना की गई थी. केवल मनरेगा पर ध्यान केंद्रित न करते हुए, इसने गरीबी और ग्रामीण विकास से संबंधित विभिन्न पहलुओं का अध्ययन किया. समिति की अध्यक्षता प्रख्यात अर्थशास्त्री महेंद्र देव ने की.

यह भी जानें- मनरेगा के तहत मिलेगा प्रशिक्षण, ट्रेनिंग के साथ भत्ता भी देगी सरकार

दिलीप चेनॉय टास्क फोर्स: मनरेगा के तहत ग्रामीण परिवारों की आजीविका के अवसरों को बढ़ाने के तरीके सुझाने के लिए 2018 में दिलीप चेनॉय टास्क फोर्स का गठन किया गया था. राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के पूर्व सीईओ दिलीप चेनॉय ने टास्क फोर्स की अध्यक्षता की.

इन सभी कमेटियों के माध्यम से ही मनरेगा में लगातार विकास संभव हो पाया है. एक आंकड़े के अनुसार मनरेगा विश्व की सबसे बड़ी और सफल योजना के रूप में भी भारत में निरंतर नियोजित की जा रही है. भारत सरकार समय-समय पर इस योजना के लिए जिस बजट का प्रावधान करती है वह अभी तक निम्न तरह से था.

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

मनरेगा के लिए लागू किए गए बजट

मनरेगा के लिए भारत सरकार प्रमुख रूप से बजट का प्रावधान करती रहती है. सरकार ग्रामीणों के लिए निर्धारित किए गए रोजगार में किसी भी प्रकार से कटौती का मन नहीं बनाती  है साथ ही उससे सम्बंधित जिस भी बजट की आवश्यकता होती है वह समय-समय पर देश में लागू कर किसानों को सुविधानुसार काम उपलब्ध कराती है. तो आइये जानते हैं सरकार द्वारा प्रस्तावित कुछ प्रमुख बजट. 

प्रारंभिक वर्ष (2006-2011): मनरेगा के कार्यान्वयन के शुरुआती वर्षों के दौरान, बजट आवंटन धीरे-धीरे बढ़ता गया. मनरेगा का वार्षिक बजट 2006-2007 में लगभग ₹12,000 करोड़ (लगभग $1.6 बिलियन) से लेकर 2010-2011 में लगभग ₹39,000 करोड़ (लगभग $5.3 बिलियन) तक था.

यह भी देखें- सरकार की ऐसी 5 योजनाएं जो कृषि मशीनों पर देंगी 80% तक सब्सिडी

संशोधन और सुधार (2011-2015): बाद के वर्षों में, मनरेगा के लिए बजटीय आवंटन में उतार-चढ़ाव का अनुभव हुआ. मनरेगा का वार्षिक बजट 2011-2012 में लगभग ₹33,000 करोड़ (लगभग $4.5 बिलियन) से लेकर 2014-2015 में लगभग ₹34,000 करोड़ (लगभग $4.6 बिलियन) तक था.

तकनीकी हस्तक्षेप (2015-2017): इस अवधि के दौरान, मनरेगा के लिए बजटीय आवंटन में मामूली वृद्धि देखी गई. मनरेगा का वार्षिक बजट 2015-2016 में लगभग ₹38,500 करोड़ (लगभग $5.2 बिलियन) से लेकर 2016-2017 में लगभग ₹48,000 करोड़ (लगभग $6.5 बिलियन) तक था.

प्रत्यक्ष लाभ अंतरण और वित्तीय समावेशन (2017-वर्तमान): हाल के वर्षों में मनरेगा के लिए बजटीय आवंटन में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है. मनरेगा का वार्षिक बजट 2017-2018 में लगभग ₹48,000 करोड़ (लगभग $6.5 बिलियन) से बढ़कर 2020-2021 में लगभग ₹73,000 करोड़ (लगभग $9.9 बिलियन) हो गया. हालाँकि, यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि COVID-19 महामारी और संबंधित आर्थिक संकट के कारण, लॉकडाउन से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत और रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए वित्तीय वर्ष 2020-2021 के दौरान अतिरिक्त आवंटन किए गए थे.

यह भी पढ़ें- उत्तर प्रदेश में पशुपालन का यह सबसे सही मौका, योगी सरकार गाय-भैस खरीदने पर दे रही है 40 हजार

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

मनरेगा से संबंधित महत्वपूर्ण वेब साईट

यहां महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) से संबंधित कुछ सरकारी और गैर-सरकारी वेबसाइटें हैं जिन पर जाकर आप मनरेगा से सम्बंधित किसी भी जानकारी को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं.

ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार: ग्रामीण विकास मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट दिशानिर्देश, अधिसूचना, रिपोर्ट और अपडेट सहित मनरेगा के बारे में जानकारी प्रदान करती है. वेबसाइट यहां उपलब्ध है:

https://rural.nic.in/

मनरेगा ऑनलाइन: यह आधिकारिक सरकारी पोर्टल मनरेगा से संबंधित ऑनलाइन सेवाएं प्रदान करता है, जैसे जॉब कार्ड पंजीकरण, कार्य आवंटन और मजदूरी भुगतान ट्रैकिंग वेबसाइट पर पहुंचा जा सकता है:

https://www.nrega.nic.in/

नरेगा संघर्ष मोर्चा: नरेगा संघर्ष मोर्चा मनरेगा के कार्यान्वयन में जवाबदेही और सामाजिक न्याय को बढ़ावा देने के लिए काम करने वाले संगठनों और व्यक्तियों का एक नेटवर्क है. उनकी वेबसाइट मनरेगा से संबंधित संसाधन, समाचार अपडेट और वकालत सामग्री प्रदान करती है. वेबसाइट पर पहुंचा जा सकता है:

http://nrega.net/

मनरेगा जॉब कार्ड: यह गैर-सरकारी वेबसाइट मनरेगा, जॉब कार्ड पंजीकरण प्रक्रियाओं और दिशानिर्देशों के बारे में जानकारी प्रदान करती है. यह मनरेगा से संबंधित विभिन्न पहलों पर अपडेट भी प्रदान करता है. वेबसाइट पर पहुंचा जा सकता है:

http://mgnregajobcard.com/

Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)
Mahatma Gandhi National Rural Employment Guarantee Act (MNREGA)

वर्तमान मनरेगा मजदूरी

केंद्र ने वित्तीय वर्ष 2023-24 के लिए ग्रामीण मजदूर गारंटी कार्यक्रम के तहत मजदूरी दरों में बढ़ोतरी को अधिसूचित किया है, जिसमें हरियाणा में सबसे अधिक दैनिक मजदूरी ₹357 प्रति दिन और मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में सबसे कम ₹221 है. केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय ने 24 मार्च को महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (एमजीएनआरईजीएस) के तहत मजदूरी दरों में बदलाव पर एक अधिसूचना जारी की थी.

मनरेगा भारतीय ग्रामीण क्षेत्रों में अत्यंत महत्वपूर्ण एक समाजिक सुरक्षा योजना है. यह कानून ग्रामीण परिवारों को रोजगार की गारंटी प्रदान करता है और जीविका सुरक्षा सुनिश्चित करता है. मनरेगा के माध्यम से कमजोर लोगों को सालाना कम से कम 100 दिनों का रोजगार उपलब्ध होता है. इसके माध्यम से सामूहिक अवसरों के साथ-साथ सामाजिक बुनियादी ढांचे जैसे सड़कों, जल संरक्षण संरचनाओं, सिंचाई सुविधाओं के निर्माण में भी मदद मिलती है. मनरेगा ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबी को कम करने, स्थायी संपत्ति निर्माण करने और महिलाओं को सशक्तिकृत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

English Summary: MANREGA This scheme has been a pioneer in the possibilities of changing rural landscape of India Published on: 06 July 2023, 02:25 IST

Like this article?

Hey! I am प्रबोध अवस्थी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News