1. ग्रामीण उद्योग

मनरेगा के तहत मिलेगा प्रशिक्षण, ट्रेनिंग के साथ भत्ता भी देगी सरकार

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार
mgnrega and villages

ग्रामीण क्षेत्र में नए रोजगारों को जन्म देने वाली सरकार की महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी (मनरेगा) योजना अब पहले से अधिक बेहतर होने जा रही है. केंद्र की मोदी सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए मजदूरों को ना सिर्फ काम बल्कि काम का प्रशिक्षण देने का भी निर्णय लिया है. खास बात यह है कि इस प्रशिक्षण के दौरान हर दिन मजदूरों को भत्ता भी दिया जाएगा.

mgnrega scheme training

यहां मिलेगा प्रशिक्षणः

मनरेगा के तहत समस्त तरह के प्रशिक्षण आपके नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र पर दिए जाएंगें. खबरों के मुताबिक प्रशिक्षण में टेक्निकल ट्रेनिंग के साथ-साथ ऑर्गेनिक खाद बनाना आदि भी सिखाया जाएगा. बता दें कि 18 से 35 साल के आयुवर्ग का कोई भी इंसान इस प्रशिक्षण का फायदा ले सकता है. वहीं  प्रशिक्षण योजना में मनरेगा मजदूरों को राजमिस्त्री और प्लंबर के कार्य भी सिखाए जाएंगें. इसमें 40 दिन का ऑन साइट प्रशिक्षण भी शामिल होगा.

mgnrega and rural india

प्रशिक्षण के दौरान मिलेगा भत्ताः

गौरतलब है कि ग्रामीणों को आगे बढ़ाने के लिए सरकार कई तरह की योजना-परियोजना चला रही है, लेकिन मजदूरी खोने या दैनिक आर्थिक कार्य ना कर पाने के डर से लोग इन योजनाओं में प्रशिक्षण लेने से डरते हैं. इस बात की गंभीरता को समझते हुए सरकार ने प्रशिक्षण के दौरान लोगों लगभग 200-300 रूपए दैनिक भत्ता देने का निर्णय किया है. ध्यान रहे कि ये योजना अक्टूबर माह के मध्य तक शुरू हो सकता है.

क्या है मनरेगाः

मनरेगा भारतीय ग्रामिण क्षेत्रों में रोजगार देने वाली सरकार की अहम योजना है. इस योजना को 2005 में लागू किया गया था, जिसके तहत प्रत्येक वित्तीय वर्ष में वयस्क लोगों को 100 दिन के रोजगार का लक्ष्य रखा गया था. मनरेगा के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में जल संरक्षण को बढ़ावा देना, ग्रामीण संपर्क-तंत्रको मजबूत करना, बाढ़ नियंत्रण और सुरक्षा जैसे मुद्दों को शामिल किया गया है.

English Summary: people will get training with allowance under mgnrega

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News