1. ग्रामीण उद्योग

कुम्हारों को मुफ्त इलेक्ट्रिक चाक वितरण करेगी सरकार, हजारों को मिलेगा रोजगार

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार
kumhazr

केंद्र की मोदी सरकार जल्दी ही कुम्हार समुदाय को बड़ा तोहफा देने वाली है. डूबते हुए पॉटरी-इंडस्ट्री को एक बार पुनः संजीवनी प्रदान करते हुए सरकार ने रेलवे स्टेशनों, हवाई अड्डों एवं बस स्टैंड्स पर कुल्हड़में पेय पदार्थ बेचने की योजना बनाई है. इस बारे में केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने अपने पत्र के माध्यम से सभी राज्यों को जल्दी से जल्दी इस मुद्दे पर काम करने को कहा है.

गौरतलब है कि भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) द्वारा आयोजित एक संगोष्ठी में गडकरी ने कहा कि "मशीनीकरण के कारण पॉटरी-इंडस्ट्री विशेषकर ग्रामिण कुम्हारों की स्थिती खराब है. सरकार उन्हें लेकर फिक्रमंद है और इसलिए हमने सभी यातायात स्टेशनों पर कुल्हड़ संस्कृति को बढ़ावा देने की योजना बनाई है." उन्होंने कहा कि "इस पहल से जहां एक तरफ लाखों कुम्हारों को रोजगार के अवसर प्रदान होंगें वहीं प्लास्टिक कचरें से भी छुकारा मिलेगा."

kumhar

25 हजार से अधिक चाक वितरण का लक्ष्यः

मीडिया को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि "रेलवे स्टेशनों पर कुल्हड़ का प्रयोग शुरू कर दिया गया है और इसे बड़े स्तर पर ले जाने के लिए भी कार्य किया जा रहा है. पिछले साल कुम्हारों को 10 हजार चाकों का वितरण किया गया था और इस बार हम 25 हजार इलेक्ट्रिक चाक वितरण करने जा रहे हैं. इसके अलावा लगातार कुम्हारों की समस्याओं को लेकर उनसे बातचीत जारी है. हम कोशिश कर रहे हैं कि ज्यादा-ज्यादा पॉटरी-इंडस्ट्री को फायदा मिले."

बता दें कि नितीन गडकरी से पहले पूर्व में लालू प्रसाद यादव एवं अन्य कई नेताओं ने भी इस तरह के कदम उठाएं थे, लेकिन स्टेशनों पर फिलहाल प्लास्टिक डिस्पोजल्स ही देखने को मिलते हैं. वहीं कुल्हड़ संस्कृति को बढ़ावा देते हुए उन्होंने कहा कि वह खुद सुबह कुल्हड़ में पानी पीना पसंद करते हैं, इससे स्वास्थ अच्छा रहता है और हम बीमारियों से दूर रहते हैं.

English Summary: government announced to served tea in kulhad across all the stations

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News