1. सरकारी योजनाएं

केले की खेती पर पाएं प्रति एकड़ 20 हजार रुपए का अनुदान

श्याम दांगी
श्याम दांगी
banana

हरियाणा के पलवल जिले के किसानों का केले की खेती की तरफ रुझान बढ़ रहा है, जिसको देखते हुए जिले का बागवानी विभाग किसानों को प्रोत्साहित कर रहा है. उन्हें केले की खेती पर अनुदान दे रहा है ताकि किसान अच्छी किस्म का केला उगा सकें. तो आइए जानते किसानों कितना अनुदान मिल रहा है और कैसे उसका लाभ उठाएं-

प्रति एकड़ 20 हजार का अनुदान

पलवल जिले के बागवानी अधिकारी डॉ. अब्दुल रज्जाक का कहना है कि हम जिले में अच्छे किस्म के केले की खेती करने के लिए किसानों को लगातार प्रेरित कर रहे हैं. नतीजतन, जिले में 2020-21 में 5 हेक्टेयर भूमि में किसान केला उगा रहे हैं. इसके लिए किसानों को प्रति एकड़ 16 से 20 हजार रुपये तक अनुदान दिया जा रहा है. किसानों को पहले साल 75 प्रतिशत और दूसरे साल 25 प्रतिशत का अनुदान उपलब्ध कराया जा रहा है. 

5 लाख तक का मुनाफा

डॉ रज्जाक का कहना है कि केला ऐसा फल है जो 12 महीनों ही बिकता है. इसके पौधे 14 महीने में फल देने लग जाते हैं. केले का उपयोग लोग खाने के अलावा सब्जी में भी करते हैं. ऐसे में बाजार में इसकी मांग हमेशा बनी रहती है. यदि किसान अच्छे किस्म का केला उगाए तो प्रति एकड़ उसे 5 लाख रुपये तक की आय हो सकती है. इसके लिए किसानों को केले की खेती करने के बेहतर तरीके बताए जा रहे हैं. 

इस किस्म के पौधे लगाएं

प्रगतिशील किसान सुरेंद्र कांत का कहना है कि केले की जी-9 किस्म के केले काफी गुणवत्ता पूर्ण होते हैं. इसकी तीन एकड़ में खेती की थी. वहीं 1400 केले के पौधे बेच दिए थे. जिससे तीन लाख 65 हजार रूपए का अतिरिक्त मुनाफा हुआ था. सुरेंद्र का कहना है कि उनके यहां केले की खेती देखने कई बाहरी किसान भी आते हैं.

योजना का लाभ

इस योजना का लाभ पाने के लिए हरियाणा के पलवल जिले के बागवानी विभाग से संपर्क कर सकते हैं.
बागवानी विभाग, हरियाणा
नोडल अधिकारी: श्री अजमेर सिंह, मोबाइल नंबर: 7355981497

English Summary: grants will be given on banana cultivation

Like this article?

Hey! I am श्याम दांगी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News